Iftar hone ko hai

अब्र की आँखों से दर्द टपकने को है
सब्र कर ऐ ज़मीं बारिश होने को है

Dard e Abr

सुनिए एक ऐसे अलहदा और शाइस्ता शाइर को
जो बड़ी ही मासूमियत से शेर पढ़ते हुए मुस्कुराते है
और दर्द की शिद्दत को सातवे आसमान तक ले जाते है

https://youtu.be/F_fMblP5jo8

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s