काव्य गोष्ठी राजस्थान चैंबर ऑफ कॉमर्स जयपुर

अब्र की आँखों से दर्द छलकने को है
सब्र कर ऐ ज़मीं बारिश होने को है

अभी प्यास लगना लाज़िम है तुझे
बस थोड़ी देर और इफ़्तार होने को है..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s