वो जब डूबने लगते है

वो जब डूबने लगते है मदद के लिए हमेशा हमको ही पुकारते है
और अगले ही पल बदले में एक बड़ा सा खंजर पीठ में उतारते है

न जाने कैसा दस्तूर है ये उनका जो अब तक समझ नहीं आया
के वक़्त रहते तो क़द्र करते नहीं और बाद में वक़्त-वक़्त पुकारते है

2 thoughts on “वो जब डूबने लगते है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s