के दिल आ जाता है दिल के किस्सों पर

उसकी आँखों के पन्नों पर
मुझे ऐतबार है अपने लफ़्ज़ों पर
हर बार ये कुछ ऐसा लिख जाते हैं
के दिल आ जाता है दिल के किस्सों पर
ये दिल आ जाता है दिल के हिस्सों पर…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s