ख़ुद को खोकर शख़्स कोई बेगाना ढूंढता हूँ…

417241_323403864374877_1138578577_n.jpg

तुमसे बात करने का बहाना ढूंढता हूँ

तुम्हारी आँखों में गुज़रा ज़माना ढूंढता हूँ

न जाने कैसा सफ़र है नज़रों से नज़रों का

ख़ुद को खोकर शख़्स कोई बेगाना ढूंढता हूँ…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s