“मैं खुद से ज्यादा आईने में किसी और को निहारता हूँ”

मक़सद को पाने की ख़ातिर, ग़ुर्बत में दिन गुज़ारता हूँ
आग किसने लगाई घर किसने जलाया, सब जानता हूँ।

न जाने किसका तिलिस्म है, जो अब तक नहीं उतरा
मैं खुद से ज्यादा आईने में किसी और को निहारता हूँ।।

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s