“इतना तो मेरा भी मुझ पर हक़ बनता है”

इतना तो मेरा भी मुझ पर हक़ बनता है,
मन की सोच का दायरा जहाँ तक बनता है ।

कोशिश करो गर दिल से तो क्या नहीं होता यहाँ,
जमा लो कदम जहाँ वहीं पर फलक़ बनता है ।

कई रात ठिठुरता है, खारापन लिए ये पानी
तब कहीं वो जाकर झील में नमक बनता है ।

हर सफ़र की यहाँ, दास्तान है बस इतनी सी
दर्द ही आख़िर इस ज़िन्दगी का सबक बनता है ।

कमी नहीं किसी चीज़ की, रब के दरबार में
रोकर तो माँगो कभी, मुकद्दर बेशक बनता है ।

देर लगी, पर अहसास हुआ ये अब इरफ़ान
अपनी ज़िन्दगी पर अपना भी तो हक़ बनता है ।।

@rockshayar.wordpress.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s