For my niece Zoya… Happy birthday Zoya…

आसमान से उतरी एक मासूम परी है ज़ोया
सर्द में निकली हो जैसे धूप सुनहरी है ज़ोया ।

खिलौनों का इसके पास कलेक्शन पिटारा है
चाँद के नज़दीक ये चमकता हुआ सितारा है ।

नानू नानी के पास अपने ननिहाल में रहती है
मुझ को देखते ही यह एलियन मामू कहती है ।

सेंट मार्शल स्कूल में रोजाना ये पढ़ने जाती है
घर पर आते ही फिर जो खुद मैम बन जाती है ।

सबसे हटकर नानू पर यह दादागिरी चलाती है
हर वक़्त बस अपनी ही फिलाॅसोफी झाङती है ।

मम्मा डैडी के आते ही सब खुशियां मिल जाती है
बाद उनके जाते ही चेहरे पर उदासी छा जाती है ।

टीवी चालू होते ही यह रिमोट पर कर लेती है कब्जा
लगाओ न प्रोग्राम मेरा तारक मेहता का उल्टा चश्मा ।

कार में बैठने से इसका जी बहुत घबराता है
ज़ौहेर मेरा भाई है कहकर उस प्यार आता है ।

ध्यान से जाना नानू रोज खुदा हाफ़िज़ कहती है
अपनी मुमानी के हाथों से ही यह तैयार होती है ।

जो कहता है वोही होता है यही है तकिया कलाम
लाओ मेरे टेन रूपीज नानू तभी करूंगी काम ।

नानी को न पाकर घर पर बेचैन सी हो जाती है
बातें करते करते नानू की गोद में ही सो जाती है ।

शबनम से निथरी हुई नूर की बूंद है ज़ोया
ख़ामोश बहती हुई आवाज़ की गूंज है ज़ोया ।।

– एलियन मामू (Iffy Mamu)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s