“राजस्थान पत्रिका (Rajasthan Patrika)”

‪#‎ObjectOrientedPoems‬(OOPs)
(Since 7th March 1956…..60 years journey)

ख़बरों ने जिसकी बदला है, लोगों के सोचने का तरीका
विश्वसनीयता का दूसरा नाम, यूँ तो है राजस्थान पत्रिका

कुलिश जी ने बोया था जो, बीज क़लम की ताकत का
बन गया हरा भरा पेङ वो अब, आवाम की ताकत का

पत्रकारिता और सच्चाई, हैं जिसके आधार सदा
आधुनिकता में भी अच्छाई, ये सबसे अख़बार ज़ुदा

परिवार को एक सूत्र में बांधे, परिवार परिशिष्ट यहाँ
युवाओं के दिल में पत्रिका प्लस का, स्थान है विशिष्ट यहाँ

सिटी का सम्पूर्ण हालचाल, सिटी पत्रिका के नाल
समस्याओं पर पैनी नज़र, ये तो जी पेपर कमाल

नेशनल ग्लोबल स्पोर्ट्स बिज़नेस, या हो चाहे राजनीति
पाठकों को सबसे रूबरू कराना, रही है सदा इसकी रीति

देश दुनिया स्पाॅटलाइट, सम्पादकीय और बात करामात
समाचार पत्र ये बयान करता हैं, समाज के बदलते हालात

कोठारी जी के नेतृत्व में, निरंतर आगे बढ़ रहा है
प्रिंट मीडिया में कीर्तिमान, नित नये ये गढ़ रहा है

शब्दों से सिखाया जिसने, ज़िंदगी जीने का तरीका
न्यूज पेपर विद सोल, वो है जी राजस्थान पत्रिका

Copyright © 2016
RockShayar Irfan Ali Khan

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s