“लक्ष्य हो जो भी तेरा, हर हाल में पाना है तुझे”

3 years of writing…The RockShayar…
It’s all about passion…
Abhi likhna hai sara jahan falaq par tujhe…This for me…

12742384_926709154044342_3821733436934033560_n.jpg

लक्ष्य हो जो भी तेरा, हर हाल में पाना है तुझे
बेसुरे हर गीत को, सुर ताल में गाना है तुझे

मुश्किलों से ना घबरा, सौ बार इनसे टकरा
औरों से नहीं यहां पर, है तुझे खुद से ख़तरा

नज़र हो तेरी मंज़िल पर, अपने बादशाह दिल पर
परवर दिगार के प्यारे बंदे, खुद को तू काबिल कर

उठकर अलसुबह तू मुस्कुरा, ज़िंदगी की तरह खिलखिला
जी उठे रोम रोम तेरा, कुछ इस तरह तू लहलहा

मन के भीतर आग है, आशाओं का अनंत पराग है
हर घङी जलता तुझ में, माँ की दुआओं का चराग है

एक बार और कोशिश, हर मर्ज़ की यही दवा है
निकल चल तू अकेला, राहें तेरी खुद हमनवा है

बंदिश ना कोई रोक सके, रंज़िश ना कोई टोक सके
अग्निपथ पर ऐसे चल, के साज़िश ना कोई रोक सके

लक्ष्य हो जो भी तेरा, हर हाल में पाना है तुझे
बेसुरे हर गीत को, लय ताल में गाना है तुझे ।।

‪#‎RockShayar‬ Irfan Ali Khan

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s