“ज़ख्म वो अपने सब, उधेड़कर फिर सीने हैं तुझे”

ज़हर के वो कड़वे घूँट, रह रहकर पीने हैं तुझे,
बेदर्द ज़िंदगी के सितम, सब सहकर जीने हैं तुझे ।

वक़्त आ गया अब, दर्द को दर्दनाक मौत देने का,
ज़ख्म वो अपने सब, उधेड़कर फिर सीने हैं तुझे ।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s