मैं खुद नहीं जानता, ये मेरी कुदरत क्या है ?

मैं खुद नहीं जानता, ये मेरी कुदरत क्या है ?
दबी है जो दिल में कहीं, वो हसरत क्या है ?

तोहमत लगाते है लोग अक्सर, खुदग़र्ज़ी की मुझ पर
और मुझे अब तक पता नहीं, के मेरी फ़ितरत क्या है ?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s