असीम भाई से मिलकर बहुत अच्छा लगा हमें…

11844955_1462697897369915_5334540782048644550_o 11922789_1462699040703134_8270030738297489599_o

@Aakhir Aseem bhai se mualaqat ho hi gayi meri….wo bhi optics shop par…to nazreen pesh hai….us manazr ka shayarana bayaan…..

नूर-ए-नज़र मय दो आँखें लिए शान से
जा पहुँचे भई हम तो चश्मों की दुकान में
एक एक करके वो फ्रेम सब देखते गये
आईने में खुद को बख़ूबी निहारते गये
मुलाकात हुई तभी उस शख़्सियत से
रंग भर दे जो अल्फ़ाज़ में क़ैफ़ियत से
सलाम हुआ तआरूफ़ हुआ और हाथ मिले
गुलाबी नगरी से है पर आज एक साथ मिले
असीम भाई से मिलकर बहुत अच्छा लगा हमें
मासूमियत वो सादापन बहुत सच्चा लगा हमें
बाद खुशी के मौके पर
स्टाइलिश सेल्फ़ी तो बनती है
पिंकसिटी के पोएट्स पर
राॅकिंग शायरी तो बनती है.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s