“उड़ने दो हमें भी”

In every 40 seconds a life is lost through suicide (Worldwide as per WHO data). In India every day 3 lives lost due to suicide.
This is my poetic tribute for them…

Remember, exams are just one small milestone in life, not life itself.

chi-pressure JpjwH taare-zameen-par-2007-avi_001892180

खुली हवा में, चहकती सुबह में
ख़्वाबों के, ख़्वाहिशों के जहां में
उड़ने दो हमें भी, उड़ने दो हमें भी
आसमां ये ज़मीं, सितारों की नदी
दिल की आवाज़ है, सच्ची जो कि
सुनने दो हमें भी, सुनने दो हमें भी

आज़ाद बहने दो, यूँ आज़ाद रहने दो
आज़ादी से अपनी, हर बात कहने दो
ना कोई बंधन रहे, ना कोई तनाव रहे
सपनो के गाँव में, मन ये धूप छाँव सहे

खुली फ़िज़ा में, महकती सुबह में
उम्मीदों के, इरादों के बाग़बां में
रहने दो हमें भी, रहने दो हमें भी
रास्ता ये कभी, विचारो की नदी
दिल की आवाज़ है, सच्ची जो कि
बहने दो हमें भी, बहने दो हमें भी । ।

Copyright © 2015 RockShayar
Irfan Ali Khan
All rights reserved.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s