“कई दिन हो गए है तुझसे मिले हुए”

 1891291_676968972351696_1443802110819097703_n

कई दिन हो गए है तुझसे मिले हुए
अब तो ख़याल में भी नहीं आती हो
जैसे कोई तिलिस्मी बंदिश लगा रखी हो
इससे बड़ी सज़ा क्या होगी आख़िर
कि तुम्हें सोचना तो चाहता हूँ
मगर सोच नहीं पाता हूँ
खुद को हर शब ख़्वाब में
फिर उसी जगह पाता हूँ
मिले थे जहाँ कभी हम आख़िरी बार
और अब आलम ये है कि
वो ख़्वाब तक नहीं आते है
चाहे जितनी भी कोशिश मैं करू
तुम्हारे लिए आसां है शायद, भुलाना मुझे
मगर मेरी तो हर साँस में
तुम ही तुम बसी हो
पता नहीं ये क्या है ? मगर जो भी है यही है
पता नहीं ये क्यूँ है ? मगर जो भी है यही है
इतना जरूर पता है, ये जो भी है बेवजह नहीं है
कई दिनों से छुपा रखा था मैंने इसे
मगर कल जब वो बारिश हुई
तभी कहीं सीने की क़ैद से फिसलकर
वो एहसास चुपके चुपके से
कागज़ की कश्ती पर सवार हो गया
ताज्जुब इस बात का नही
कि तुम्हें इसकी खबर नही
ताज्जुब इस बात का है
कि दिल को इसकी खबर होते हुए भी
ये दावा करता रहा
कई दिनों तक बेखबर होने का
इसे क्या पता ?
तुम्हारा मेरा और बारिश का रिश्ता क्या है ?
गर पता होता तो ये सवाल ना आता
इसकी जगह कुछ अश्क़ छलक आते
लरजते दामन में जिनके
नज़र आती फिर
अधूरी वो गुज़ारिश मेरी
कई दिन हो गए है तुझसे मिले हुए
अब तो ख़याल में भी नहीं आती हो ।।

#RockShayar

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s