“सफ़र नया, हमसफ़र नया, नया है अब कारवां”

Bike Tripbike trip 2

सफ़र नया, हमसफ़र नया, नया है अब कारवां
शहर नया, रहगुज़र नया, नया है अब रास्ता

जाना कहाँ, किस ओर है, नही कोई भी खबर
मंज़र नया, मर्क़ज़ नया, नया है अब काफ़िला

इरादों की ज़मीं पर, ख़्वाबों की बगिया खिला
शज़र नया, गुलशन नया, नया है अब बागबां

एहसास की नदी में यूँ, बहता जा तू धीरे धीरे
शऊर नया, दस्तूर नया, नया है अब जायज़ा

ज़िन्दगी का फ़लसफा, रूहानियत में है छुपा
समर नया, सरवर नया, नया है अब पासबां

उङने को तू आज़ाद है, पंख अपने खोल ज़रा
हुनर नया, परवाज़ नया, नया है अब आसमां

मन की आँखों से कभी, देख तू खुद को यहाँ
असर नया, अंदाज़ नया, नया है अब आईना

राह पर अब अपनी, चल तू फिर से ‘इरफ़ान’
सफ़र नया, रहबर नया, नया है अब कारवां

© RockShayar

सफ़र – यात्रा
हमसफ़र – साथी
कारवां – समूह, दल, जत्था, टोली
रहगुज़र – मार्ग, पथ, रास्ता
मंज़र – दृश्य
मर्क़ज़ – केंद्र, गढ़
काफ़िला – समूह, जत्था, दल, टोली
बगिया – छोटा बगीचा
शज़र – पेड़, दरख़्त
गुलशन – बाग़, बगीचा
बागबां – बाग़ की देखभाल करने वाला, माली
एहसास – संवेदना, महसूस करना
शऊर – विवेक, ज्ञान
दस्तूर – प्रथा, रीति रिवाज
जायज़ा – अनुमान
फ़लसफा – दर्शन
रूहानियत – आत्मिक, आत्मीय
समर – युद्ध, रण, जंग
सरवर – मालिक, स्वामी, नाथ
पासबां – निगरानी रखने वाला, निगेहबान
आज़ाद – स्वतंत्र,
हुनर – फ़न, कला, कमाल
परवाज़ – उड़ान
असर – प्रभाव
अंदाज़ – शैली, लहजा, ढंग
आईना – दर्पण, शीशा
राह – मार्ग, पथ, रास्ता
रहबर – पथदर्शक, मार्गदर्शक, रास्ता दिखने वाला

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s