“फितरत-ए-इन्सां”

10443036_692529944128932_8487996785018817960_o

Dedicated to the victims of Gaza Strip Conflict which included mostly children and women…
COME LIGHT, LIGHT OF GOD, GIVE LIGHT TO CREATION
ENLIGHTEN OUR HEARTS AND REMAIN WITH YOUR WORLD

तौबा करके फिर वो गुनाह करता हैं
ज़िन्दगी को बस यूँही फ़ना करता हैं

सियाह आमालों पर पर्दा डालकर
नेकियों की तक़रीर सुना करता हैं

नफ़्स की वहशत में अँधा होकर
कायनात के मन्ज़र तबाह करता हैं

मज़हब के तराज़ू में ना तोलो इसे
शैतान क्यां कभी फ़लाह करता हैं

ताउम्र नफ़रत का सौदागर रहा वो
दहशतगर्द मगफ़िरत की दुआ करता हैं

क़यामत की घड़ी नज़दीक हैं इरफ़ान
इन्सां अब इन्सां को ज़िबह करता हैं

(c) RockShayar

तौबा – Regret फ़ना – Destroy
सियाह – Dark आमाल – Doing
तक़रीर – Speech नफ़्स – Sense
वहशत – Wildness कायनात – Universe
मन्ज़र – Scene फ़लाह – Virtue
दहशतगर्द – Terrorist मगफ़िरत – Forgiveness
क़यामत – Day of Judgement
ज़िबह – Murder

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s