“तेरे लिए”

Image

छलकते हुए तेरे अश्क़ों को, यूँ पीता चला जाऊ
तेरे लिए एक ज़िन्दगी और मैं, जीता चला जाऊ

मेरी हर इक सांस पर, नाम लिखा है सिर्फ तेरा
तेरे सारे ज़ख्मो को, बस यूँही सिलता चला जाऊ

दुनिया के रस्मो रिवाज़ की, परवाह नहीं है मुझे
तेरे लिए ही सारी हदें, बस मैं तोड़ता चला जाऊ

तुम साथ हो गर तो, हर मुश्किल आसान लगे
तेरे लिए ही खुशिया, बस मैं जोड़ता चला जाऊ

इत्तेफाक नहीं कोई, खुदा की मर्ज़ी है मुहब्बत
तेरे लिए ही हर सितम, बस मैं सहता चला जाऊ

“शायर”

Image

जैसे रूह के बिना नही होता है, ज़िस्म पूरा
वैसे ही कागज़ और कलम के बिना, शायर है अधूरा
हर घङी ज़हन में, ख्यालो कि नदी बहती रहती है
कोरे पन्नो पर एहसास उतरता है, वो आहिस्ता
ख्वाब तैरते है कई, खुली आँखों के दरमियां
पहनाता है यूँ लिबास, नज़्म कि शकल में
कभी दर्द में डूबे ज़ज्बात, रात भर सिसकते रहते है
कभी इश्क़ में भीगे हुए अल्फाज़, महकते रहते है
अपने अक्स को कागज़ पर, सजाता है शायर
हर दिन इक नया अन्दाज, ज़िन्दा करता है शायर
रूह कि गुज़ारिश को, लफ्ज़ो में बसाता है शायर
मगर आखिर में, ख्यालो कि इस हैरतअंगेज़ जंग में
कागज़ के मैदान पर, शायरी जीतती है, शायर नही
लोग शायर को, उसकी शायरी कि वजह से याद करते है…

“ना मिटा सकोगे मेरी पहचान को”

Image

साजिशें कर लो चाहे कितनी भी तुम
ना मिटा सकोगे मेरी पहचान को

बन्दिशें लगा दो तमाम फिर भी
ना रोक सकोगे मेरी रफ्तार को

कोशिशें कर लो चाहे कितनी भी
ना दबा सकोगे मेरी आवाज़ को

रंजिशे बुनते रहो ताउम्र फिर भी
ना बुझा सकोगे मुझमें आग को

ख्वाहिशें रखो चाहे कितनी भी तुम
ना मिटा सकोगे यूँ इरफ़ान को

“गुज़ारिश है तुमसे”

Image

बस इतनी गुज़ारिश है तुमसे
तसव्वुर पर बन्दिशे ना लगाना
रूह को बेहद सूकूं मिलता है
जब तुम्हारे बारे में सोचता हूँ
मगर ये जख्मी दिल डरता है
इसलिये लफ्ज़ो में बयां करता हूँ
थोङा ऐतबार करो मुझ पर
दोस्त हूँ मैं, कोई गैर नही
मुहब्बत हुई है, गुनाह तो नही
मेरे लिये, वोह एहसास हो तुम
महसूस करता हूँ, हर लम्हा जिसे
दूर होकर भी, मेरे पास हो तुम
कभी तो वो दिन भी आयेगा
जब मैं तुम्हे याद आउंगा बहुत
और तुम यूँ खामोश बैठी हुई
अल्फ़ाजों में ज़िन्दा पाओगी मुझे

“मैं रहूँ ना रहूँ, मेरे अल्फ़ाज़ ज़ाविदाँ हैं”

Image

मैं रहूँ ना रहूँ, मेरे अल्फ़ाज़ ज़ाविदाँ हैं 
कल मिलू ना मिलू, मेरा अंदाज़ अलहदा हैं

गर्दिशों में डूबता रहा, किरदार ये मेरा 
कैसे तलाशू अब उसे, वो वज़ूद गुमशुदा हैं

बैचैनी का सबब, कभी ना जान सका 
रूह में बस गई खलिश, ज़ज्बात ग़मज़दा हैं

आसमां लिखना है, फलक पर अभी मुझे 
इन्तेहा से दूर तलक, ये मेरी बस इब्तिदा हैं

 

 

“शायर”

Image

शायर तो एक अधूरी कहानी है
लफ्ज़ो में जिसे आहें छुपानी है 

चोट खाकर ही समझा ये दिल 
बीते रिश्ते वक़्त की नादानी है 

ख्वाबों में तलाशता रहा हूँ जिसे 
वोह तस्वीर ज़ेहन में पुरानी है 

लबों से छूकर यह मालूम हुआ 
ग़ज़ल तो एहसास की रवानी है 

जो महसूस करो तब पता चले 
ख्यालों की ये खुशबू रूहानी है 

फ़क़त ‘मिर्ज़ा’ की तकदीर इतनी 
तन्हाई में अब यूँ रातें जलानी है 

“माँ की गोद”

Image

माँ की गोद में जब भी लेटता हूँ 
मुझको जीने का एहसास होता है

परियो की कहानी जब वो सुनाये 
सुनहरा इक जहाँ महसूस होता है

नमाज़ पढ़कर जब वो दुआए मांगे 
फ़रिश्तों का साया मेरे साथ होता है

मैं जब भी कहीं कामयाब होता हूँ 
माँ के लिए वो दिन खास होता है

माथे को चूमकर जब वो हाथ फेरे 
मुक़द्दर को भी खुद पे नाज़ होता है

माँ की गोद में जब भी लेटता हूँ 
मुझको ज़न्नत का एहसास होता है…

“मैं जिन्दगी को अब कागज़ पर सजाता हूँ”

Image

कच्चे ख्यालों के पक्के मकां बनाता हूँ
मैं शायरी में दिल की बैचैनी छुपाता हूँ

मुख़्तसर में भरपूर का एहसास है ग़ज़ल
मैं चंद लफ्ज़ो में पूरी कहानी सुनाता हूँ

ख्वाबों के परिंदे यूँ कैद है मुझमें कहीं
नज़्म के फलक पर मैं उनको उङाता हूँ

गुजरी यादों से भीगा है वक्त का लिबास
रूह की तपिश से मैं जिसको सुखाता हूँ

गर महसूस कर सको तो ये है इक अदा
मैं जिन्दगी को अब कागज़ पर सजाता हूँ…

“मुलाकात”

Image

बाद मुद्दतो के आखिर 
आज तुमसे मुलाकात हो गई 
बंज़र थी दिल की ज़मीं
वोह पहली बरसात हो गई 
मुझे अब तक याद है 
जब मिलते थे हम कभी
मौसम मेहरबां हो उठता था 
रिमझिम फुहारे शुरू हो जाती 
बारिश में भीगकर
तुम यूँ लगती थी 
जैसे कोई शोख जलपरी 
एहसास के दरिया में, तैर रही हो 
जब भी तुम्हे, चुपके चुपके देखता था 
हया का इक झोंका आकर
नज़रो को झुका देता था, आहिस्ता आहिस्ता 
आज मगर क्यूँ 
खामोश बैठे हुए है, हम दोनों 
जैसे कोई अजनबी, मिल रहे हो 
पहली मुलाकात में, कहीं पर 
मेने तुम्हारी वो तस्वीर 
अब तक छुपा रखी है
अपनी पुरानी डायरी में
जिसे मैं अक्सर 
तकिये के नीचे रखकर सोता हूँ 
शायद इस वजह से
ख्याल कहीं उड़कर दूर ना चले जाए 
कुछ तो था शायद 
तेरे मेरे दरमियान 
बेनाम रिश्ता ही सही 
यूँही नहीं कोई 
इक तस्वीर को, दिल में बसा कर
लफ्ज़ो के अनगिनत फ़साने 
लिखता चला जाता है 
मैं आज तक नहीं जान पाया हूँ
आखिर राज़ क्यां है 
इस सूफ़ियाना फितूर का 
जब भी तुम्हे सोचता हूँ 
यह फिर से ज़िंदा हो जाता है.

“रोशनी”

Image

दरख़्तो के झुरमट से छनकर
रोशनी जब, इन आँखों पर पङती है
यूँ लगता है, जैसे कहीं
ख़ुश्क ज़मीं पर, बारिश हो रही हो
सब्ज़ पत्तो को, चीरती हुई
अपना रास्ता, ये खुद बना लेती है
रोशनी जो आज़ाद है, हमेशा से
बन्दिशो में इसे, ना कोई क़ैद कर सका
दिल कि गीली ज़मीं पर, जब भी गिरती है
उगने लगते है, एहसास के नन्हे अँकुर
जब कभी, गर्दिशो में खोने लगता हूँ
उम्मीद कि किरण, ये फिर से जगा देती है
ख्यालों के लिबास में लिपटकर
रोशनी जब, मेरी साँसो में घुलती है
यूँ लगता है, जैसे कोई
रूहानी खुशबू, मुझमें ज़िन्दा हो रही है

“माँ”

ImageImageImage
घने अंधेरो से, अब मैं डरता नही 
माँ की दुआए, मेरे साथ चलती है 
दुनिया के किसी कोने में, चाहे रहूँ 
बुरी नज़र से मुझे, महफूज़ रखती है 
तकलीफे मेरी, बिन कहे समझ लेती
इक माँ ही है, जो मुझे हौंसला देती है
इक माँ…….जो मुझे टूटने ना देती है
जब भी चूमता हूँ, माँ के कदमो को
जन्नत की घटाए, बरसने लगती है
अपने बच्चो को, बेपनाह चाहती है माँ
खुद भूखी रहकर, पहले उन्हें खिलाती है माँ
जब भी परेशान होता हूँ, बहुत याद आती है
दूर होकर भी सदा, वो मेरे पास रहती है
सिर पर हाथ फेरकर, यूँ माथे को चूमती है
जीता रहे तू, माँ मुझसे ये अक्सर कहती है
काले सायो से, अब मैं घबराता नहीं
माँ की दुआए, मेरे साथ चलती है ……
 

“सफ़र”

Image

अनजानी राहों पर, चल रहा हूँ मैं 
रूख़ हवाओ का, बदल रहा हूँ मैं 

तन्हा सफ़र में, मिले थे शख़्स कई
अधूरा इक ख्वाब लिये, जल रहा हूँ मैं 

जब भी लिखने बैंठू, लगता है यूँ 
लफ्ज़ो की सोहबत में, पल रहा हूँ मैं 

दर्द का एहसास, रूह को होता नही
ख़्वाहिशों की तरह, बदल रहा हूँ मैं 

मंजिले रुस्वा, नहीं है कोई ठिकाना 
शायराना अंदाज़ में, बस ढल रहा हूँ मै…

“यादें”

Image

सूखे पत्तों की तरह, यादें उड़ती रहती है 
किसके इंतज़ार में, ये आँखे जगती रहती है

ख्यालों के दरमियां, रहता है इक अजनबी 
देखकर जिसको मेरी, सांसे चलती रहती है

ख्वाबों के ही आसपास, ढूंढता हूँ वो जगह 
ख़ामोशी भी यूँ जहाँ, बातें करती रहती है

चाहत पर ऐतबार, दिल को अब होता नहीं 
अल्फ़ाज़ों के शहर में, रातें कटती रहती है

रूखे लम्हों की तरह, शामें ढलती रहती है 
किसके इंतज़ार में, ये आहें भरती रहती है……

 

 

“तेरा चेहरा”

Image

तेरा चेहरा रहता है, निगाहों में मेरी 
रात ढलते ढलते, ख्वाबों में उतर आता है

सही गलत के पार, मिले थे हम जहाँ 
वो पता अब इन, आँखों में नज़र आता है

तलाशता रहता हूँ, महकती खुशबू तेरी 
लिखूं जो नज़्म तुझपे, एहसास उभर आता है

धुंधले से लगते है, गुजरे हुए सब लम्हे 
सुनहरा वो दौर, कुछ यादो में ठहर जाता है

महफ़िल में अक्सर, यूँ खामोश रहता हूँ
दिल को मेरे अब, ख्यालों का शहर भाता है

सूफ़ी शायर बसता है, ख़लाओं में मेरी 
रूह का उठता धुँआ, ग़ज़ल में नज़र आता है

“तेरा चेहरा”

 

तेरा चेहरा रहता है, निगाहों में मेरी 
रात ढलते ढलते, ख्वाबों में उतर आता है

सही गलत के पार, मिले थे हम जहाँ 
वो पता अब इन, आँखों में नज़र आता है

तलाशता रहता हूँ, महकती खुशबू तेरी 
लिखूं जो नज़्म तुझपे, एहसास उभर आता है

धुंधले से लगते है, गुजरे हुए सब लम्हे 
सुनहरा वो दौर, कुछ यादो में ठहर जाता है

महफ़िल में अक्सर, यूँ खामोश रहता हूँ
दिल को मेरे अब, ख्यालों का शहर भाता है

सूफ़ी शायर बसता है, ख़लाओं में मेरी 
रूह का उठता धुँआ, ग़ज़ल में नज़र आता है

“या गरीब नवाज़”

Image

बिखरे मुक़द्दर के कतरे, दामन में लपेटकर 
थमती साँसों कि अर्ज़िया, पलकों पे संजोकर 
आया हूँ मैं तेरे दर पर, या गरीब नवाज़ 
गुनाहो से मेरा दिल, सियाह हो गया है
गुमनाम ज़िन्दगी में, मकसद खो गया है 
ढहते हुए वज़ूद को, सहारे कि जरुरत है 
इनायत मुझ पर हो, या गरीब नवाज़ 
शहंशाह-ए-हिन्द के दरबार का, है ये मंज़र 
रहमत बरसती है, यूँ बनकर इक समंदर 
जो भी आते है यहाँ, बिगड़ी उनकी बनती है 
सच्चे दिल से मांगी, हर मन्नत पूरी होती है 
ज़िन्दगी के दर्द-ओ-ग़म, यूँ फ़ना हो जाते है
भींगने लगे जब मन, सूफियाना बारिश में 
ख्वाज़ा के करम कि, मुझ पर अब हो नवाज़िश 
रूह को करार आ जाये, बस इतनी है गुज़ारिश 
रूठी तक़दीर के टुकड़े, आँखों में समेटकर 
जख्मी दिल कि फरियादें, अश्क़ो से भिगोंकर 
आया हूँ मैं तेरे दर पर, या गरीब नवाज़…….

“कुत्ते का एक बच्चा”

Image

सूखी हड्डियो का ढांचा
तन के टुकङो में लपेटकर
बैठा है यूँ , दुबककर
कुत्ते का एक बच्चा
धूप से परेशां होकर
भूख से बिलखता हुआ
तलाश रहा है, कब से
सुकून की ज़मी यहाँ
गली के बदमाश बच्चे
कभी पूँछ से उठा लेते 
कभी पत्थर से मारते 
दर्द से ये, गुर्राता भी है
लेकिन छोटा है, अभी उम्र में
इसीलिये, कोई डरता नही 
मेने जब, इक रोटी डाली
खाने लगा, यूँ चांव से
जेसे, सब मिल गया इसे
और हिलाने लगा, पूंछ अपनी
बेज़ुबान है ये, मगर खुदगर्ज नही 
इन्सां के लिये, जो हैरत की बात है

“दिल-ए-नादान”

Image

दिल-ए-नादान, क्यां हो गया है तुझे
दर्द सहकर भी, यूँ मुस्कुराने चला है

शीशे की तरह है, नाजुक मेरे ज़ज्बात
बिखेरकर इन्हे तू, फिर समेटने चला है

सोहबत में किसकी, रंगत बदलती रही 
होश गवांकर यूँ, फिर सम्भलने चला है

ख्यालो के कारवां, लफ्ज़ो में बसने लगे
लिखकर जिन्हे तू, फिर सवाँरने चला है

एहसास के वजूद की, खुशबू शायराना
पढकर इक गज़ल, रूह महकाने चला है

दिल-ए-नादान, क्यां हो गया है तुझे
इश्क दां सफर, फिर आज़माने चला है…

“पलकों की ज़ुबां”

Image

पलको के पर्दो से
झाँक रही दो आँखें
कुछ कहना चाहती
यूँ चुपके चुपके 
नैनो की ज़ुबां
अक्सर दिल ही समझता है
इशारो में अब जिनसे
गुफ्तगू करता रहता हूँ
मिली हो जब से तुम
लफ्ज़ो में ताजगी आ गई
तेरे होने का एहसास
इनको भी हो रहा शायद
मासूम अदाओ में
लिपटा हुआ सादापन
दीवाना करता है मुझे
लबो से झरते है मोती
जब पुकारती हो तुम
तलाश रहा हूँ तुम्हे
कहीं भी मिलती नही क्यूँ
और दिल कहता रहता है
तुम अब मुझमें कहीं हो……