“Elasticity/लोच/प्रत्यास्थता”

#ObjectOrientedPoems(OOPs)

screen_shot_2015-04-01_at_9.36.09_am_140703

इस दुनिया में हर चीज़ बलपूर्वक बदलाव का विरोध करती हैं
लेकिन बहुत कम चीज़ें ऐसी होती हैं, जो बल हटते ही पहले जैसी होती हैं

पदार्थ का यही गुण तो Elasticity है
रबर को देखकर हमें कला ये सीखनी है

मगर Elasticity की भी अपनी एक Limit होती है
क्योंकि हर किसी में इतनी सहनशक्ति नहीं होती है

एक यंगमैन ने सबसे पहले इस बात का पता लगाया
Stress और Strain का Ratio Young Modulus कहलाया

Unit Area पर लगाएं गए Force को ही Stress कहते है
जो कि आजकल हम लोग बहुत ज्यादा ही लेते हैं

वही लंबाई में बदलाव को Strain कहते है
और हिंदी में बोले तो इसे विकृति कहते है

जो कि आजकल हम इंसानों की सोच में आई हुई हैं
देखकर जिसे खुद हैवानियत भी घबराई हुई है

हुक बाबू की माने तो Stress व Strain एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं
Elasticity Constant है अनुपात तथा मात्रक को पास्कल कहते है

हालात कैसे भी हो, अगर हम Elastic बन जाएं
तो बबुआ साड्डी लाइफ भी Very Very Fantastic हो जाएं

वादा है जी, अगला Topic More Than लाजवाब होगा
मलाई की तरह लगेगी पढ़ाई, और मज़ा भी बेहिसाब होगा।

“चमकीले दिन बड़ी जल्दी बीत जाते हैं”

o-WOMAN-WRITING-LETTER-facebook

Woman writing in her diary at sunset

चमकीले दिन बड़ी जल्दी बीत जाते हैं
रह रहकर बाद में बहुत याद आते हैं

साथ चलती है सदा परछाई वक़्त की
बीच-बीच में धूप के साये मुस्कुराते हैं

बिना जिनके हर खुशी अधूरी हैं, साथ जिनका कि बेहद ज़रूरी हैं
अँधेरे में यार सितारों से जगमगाते हैं

ना कोई फ़िकर रहती है, ना कोई परेशानी वहां
ज़ुनून के पौधे जिस जगह लहलहाते हैं

खुशबू आती हैं, हरवक़्त अपने अंदर से 
रूहानियत के फूल सारा आलम महकाते हैं

चाहे जितनी हवा भरो, चाहे जितनी दवा करो
मन के ये गुब्बारे फटाक से फूट जाते हैं

मज़बूरी में साथ निभाते हैं, मज़दूरी में कुछ नहीं पाते हैं
दूर जाने के बाद दोस्त बहुत याद आते हैं।

“आँखों से अश्क़ अब आज़ाद होना चाहते हैं”

आँखों से अश्क़ अब आज़ाद होना चाहते हैं
शायद! वो और कहीं आबाद होना चाहते हैं।

हमें तो उनकी हरइक साँस, है अब तक याद
और वो है के बीती हुई बात होना चाहते हैं।

बहुत वक़्त गुज़रा, फिर भी ज़ख्म नहीं भरे
लगता है अधूरा इक एहसास होना चाहते हैं।

तरबतर कर दे जो, रूह और रूहदार दोनों को
बंजर के लिए हम वो बरसात होना चाहते हैं।

रोते हुए इस बार भी, आंसू नहीं छलके उसके
किसी और की अब वो फ़र्याद होना चाहते हैं।

वो गलती से भी हमें, याद नहीं करते कभी
हम है के उनके लिए बर्बाद होना चाहते हैं।।

“इंतज़ार में आपके मज़ार हुए बैठे है”

IMAG1445.jpg

होश गंवाने को तैयार हुए बैठे है
खानाबदोश मन का शिकार हुए बैठे है

चादर चढ़ाने ही सही, पर आओ कभी
इंतज़ार में आपके मज़ार हुए बैठे है

ये हुनर सीखना इतना आसां नहीं हुज़ूर
बिन बादल देखो मल्हार हुए बैठे है

एक आप ही हो, जो क़रार के तलबगार हो
वरना हम तो कब से यूं बेक़रार हुए बैठे है

वज़ह थी इसकी भी, वज़ह बहुत बड़ी
बेवज़ह तो नहीं हम ख़ुद्दार हुए बैठे है

तुमने शायद ग़ौर नहीं किया इस बारे में कभी
मुद्दत से मेरे यार इंतज़ार हुए बैठे है।

हमने अपनी आँखों में इक आफ़ताब छुपा रक्खा है

44932355_1991476190939007_4069240372021166080_o.jpg

हमने अपने वज़ूद को कुछ यूं बचा रक्खा है
जैसे बरसती हुई बारिश में चराग़ जला रक्खा है

गज़ब हो जाएगा, जिस दिन अश्क़ों का सागर सूख जाएगा
बस इसीलिए तो सीने में एक दरिया दबा रक्खा है

पथराई आँखों को पढ़ने की गुस्ताख़ी ना कर बैठना
हमने अपनी आँखों में इक आफ़ताब छुपा रक्खा है

कई सिलसिले बाक़ी हैं, अभी कई जलजले बाक़ी हैं
तभी तो हज़ार रातोंं से हमने नींद को जगा रक्खा है

तुमने अभी हमारी मेहमाननवाज़ी देखी ही कहां है?
आओ कभी हवेली पे हमने मौत को दावत पे बुला रक्खा है।

मैं उनका दिल बहलाता हूं, वो मेरे ज़ख़्म सहलाते हैं

मेरा लहजा समझने वाले खुद को भूल जाते हैं
कई दिनों तक खुद में वो मुझको ही पाते हैं

हालांकि मैं ये सब जानबूझकर नहीं करता हूं
मैं उनका दिल बहलाता हूं, वो मेरे ज़ख़्म सहलाते हैं

“Brain/दिमाग़/मस्तिष्क/भेजा”

95de7b3d5daf07dea468a6f4985c8389e63e7c1e9b445093ed08c41f0edd071a

इंसानी खोपड़ी भी क्या कमाल की चीज है
दिमाग को सुरक्षित रखती, ये वो चीज है

मात्र 29 हड्डियों से अपुन की खुपड़ियां बनी हैं
8 कपाल से, 14 चेहरे से, 6 कान से जुड़ी हैं

कपाल में ही तो छुपा असली माल है
साला 1400 ग्राम का दिमाग़, मचाता कितना बवाल है

खरबों न्यूरॉन्स थॉट वाली बोट चलाते हैं
बैकबॉन के ज़रिए ब्रेन को बाहुबली बनाते हैं

तीन मुख्य हिस्सों में बंटा हुआ है अपना भेजा
अगला, पिछला, मंझला, कुछ ऐसा है अपना भेजा

नर्वस सिस्टम है इसका कर्ता-धर्ता
दिमाग़ तो है बस भावनाओं का भर्ता

अगला भेजा अगेन तीन तिगाड़े में बंट जाता हैं
सेरीब्रम, थैलेमस, हाइपोथैलेमस कहलाता हैं

सोच का सागर सेरीब्रम से ही तो बहता है
थैलेमस तो बस ज़िंदगीभर दर्द ही सहता है

हाइपोथैलेमस में ही तो सब जज़्बात जवां होते हैं
गुस्सा, नफ़रत, इश्क़, मोहब्बत इसी में पनपते हैं

दिल तो बेचारा बरसों से, फोकट में ही बदनाम है
मज़नू, शायर, पागल, दीवाना, यहीं से पहचान हैं

मंझला हिस्सा हमें देखने-सुनने की शक्ति देता है
सेरीब्रल पेंडिकल दिमाग़ी तार स्पाइनल कॉर्ड से जोड़ता है

पिछले वाले हिस्से के, हैं जो दो अनमोल रतन
सेरीबेलम व मेड्यूला ऑब्लांगेटा, कहते जिन्हें सब जन

सेरीबेलम है वो खिलाड़ी, जो बॉडी का बैलेंस बनाता है
और मेड्यूला अपने इशारों पर दिल को धड़काता है

दारू पीने पर साड्डा सेरीबेलम बहक जाता है
इसी वज़ह से तो शराबी लड़खड़ाकर चलता है

सोडियम, पौटेशियम, और कैल्शियम की मदद से
इमोशन सब मोशन करते हैं इन तीनों की वज़ह से

ईईजी की मदद से दिमाग़ के तेवर पढ़े जाते हैं
ख़यालों में अक्सर ज़ेहन के ज़ेवर गढ़े जाते हैं

लाइफ का अक्खा लोचा चंद हॉर्मोंस की वज़ह से हैं
ऑक्सीटॉसिन ही तो रोमांस की रियल वज़ह है

ज़िंदगी में ज़ुनून का होना बहुत ही ज़रूरी है
साथ हो गर डोपामाइन का तो लक्ष्य से ना कोई दूरी है

कई सदमे सहता हैं, क्रेडिट जिनका के दिल लेता हैं
सदियों से बदनाम है दिमाग़, फिर भी खुश रहता है

तो बीड़ू कैसा लगा अपुन का माइंड ब्लोइंग माइंड
माइंड मत करना, क्योंकि ये है शायरी विद साइंस।

#ObjectOrientedPoems(OOPs)
#RockShayar

 

मैं लिखते वक़्त तड़पा था, तुम पढ़ते वक़्त तड़पना

42429518_1406165382819215_7874425321460596736_n

मेरी शायरी को समझने की कोशिश ना करना
ये एक समंदर है, इसमें अंदर तक उतरना

और ज्यादा कुछ नहीं बस इतना याद रखना
मैं लिखते वक़्त तड़पा था, तुम पढ़ते वक़्त तड़पना

“मैं अपने दिल को खुला आसमान समझता हूँ”

43483788_2209038696051782_512007037085810688_n.jpg

बेज़ुबान परिंदों की ज़ुबान समझता हूँ
मैं अपने दिल को खुला आसमान समझता हूँ

जिस राह पर चलने से कतराते हैं सब
मैं उस राह को अपने लिए आसान समझता हूँ

“इंतज़ार में आपके मज़ार हुए बैठे है”

होश गंवाने को यूं बेक़रार हुए बैठे हैं
खानाबदोश मन का शिकार हुए बैठे है

चादर चढ़ाने ही सही, पर आओ कभी
इंतज़ार में आपके मज़ार हुए बैठे है

ये हुनर सीखना इतना आसान नहीं
बिन बादल देखो मल्हार हुए बैठे है

एक आप ही हो, जो क़रार के तलबगार हो
हम तो कब से यूं बेक़रार हुए बैठे है

वज़ह रही थी, इसकी भी बहुत बड़ी वज़ह
बेवज़ह तो नहीं हम ख़ुद्दार हुए बैठे है

तुमने शायद ग़ौर नहीं किया इस बारे में कभी
मुद्दत से मेरे यार इंतज़ार हुए बैठे है

मोहब्बत जो भी की थी मैंने वो मेरा हुनर था

मोहब्बत जो भी की थी मैंने वो मेरा हुनर था
मुझमें था कई बरसों से ना कि तेरा असर था

बस यही समझने में सारी ज़िंदगी गुज़र गई
के हर इक सफ़र में मैं ही तो मेरा हमसफ़र था

महसूस होते-होते रह गया वो जज़्बात सयाना
महसूस भी कैसे होता वो दिल से बेघर था

उसका हर इक सपना शीशे सा टूटता गया
टूटना भी लाज़िम था उसे नींद का वहम था

तोहमत लगाने वाले भी सही थे, खिल्ली उड़ाने वाले भी सही थे
एक मैं ही था जो अपनी हस्ती से बेख़बर था

बहुत दिनों के बाद जब आई उसकी याद
तो पता ये चला के मैं चट्टान वो लहर था।

मोहब्बत हमने भी की थी किसी जमाने में

42555339_299157867340346_1866604361778462720_n
मोहब्बत हमने भी की थी किसी जमाने में
थे आदमी काम के हम भी किसी जमाने में
 
मालूम नहीं इन दिनों जाने कहां रहती है वो
वो जो मेरे दिल में रहती थी किसी जमाने में
 
ऐसा नहीं है कि हमने कोशिश नहीं की, ख़्वाहिश नहीं की
दुआएँ हमने भी मांगी थी किसी जमाने में
 
हमें ज़िंदगी का पाठ पढ़ाने वाले, क्या तुझे पता नहीं
ज़िंदगी हमने भी जी थी किसी जमाने में
 
दिल को सीने में क़ैद रखना मुमकिन कहां
ख़ता ये हसीं हमसे भी हुई थी किसी जमाने में
 
अपनी मासूमियत पे इतना भी न इतराओ तुम
थे मासूम तुम से हम भी किसी जमाने में
 
जिस जगह का ज़िक्र, शायर सयाने ने किया था कभी
कश्ती हमारी भी डूबी वहीं किसी जमाने में।

“एक अर्से से ये ज़ेहन मेरा, वादी-ए-कश्मीर है बना बैठा”

dfgdfg
ज़ेहन की जिस वादी में तेरा ख़याल पनपता है
सुना है आजकल वहां रोज़ाना कर्फ्यू लगता है
 
महज कुछ पत्थरबाज सवालों ने ये बखेड़ा खड़ा किया हैं
वरना आम ख़याल तो अब भी तेरे तसव्वुर के तलबगार हैं
 
ऐसे माहौल में अक्सर दिल के अरमान कुचले जाते हैं
मोहब्बत वाले मुल्क़ के ख़िलाफ़ ख़ूब नारे लगाए जाते हैं
 
मगर महबूब मेरे, हमें मिलना हैं चिनार के उन बगीचों में
दिमाग़ी फौज से बचके, दीदार करना हैं चुपके से दरीचों से
 
हमें बैठना हैं दिल की डल झील में, सजे हुए उन शिकारों में
हमें जाना हैं दहशत से दूर, हाँ बर्फ़ से लदे हुए उन पहाड़ों पे
 
मन की सुनसान गलियों में, भले ही सख्त पहरा हो
संग चलना हैं हमें, चाहे हर तरफ धुंध और कोहरा हो
 
खेलना हैं हमें बर्फ़ से, गुलमर्ग की उस घाटी में
फेंकने हैं गोले बर्फ़ के, तसव्वुर की तंगहाली पे
 
इंतज़ार है मुझे ऐतबार भी, इस कर्फ्यू के हट जाने का
एक अर्से से ये ज़ेहन मेरा, वादी-ए-कश्मीर है बना बैठा।

“दिल की बात, हाँ सबके साथ”

 

है ये गए शनिवार की बात
जमके जिस रोज़ हुई बरसात
की नए दोस्तों से मुलाक़ात
कुछ हसीं बात हुई उस रात
ज़िन्दा हुए फिर से जज़्बात
हुई नए सफ़र की शुरुआत
"हस्ताक्षर" की ये है सौगात
दिल की बात, हाँ सबके साथ
दिल की बात, हाँ सबके साथ

क्या खूब रही वो हसीन शाम
था जिसका बड़ा ही प्यारा नाम
दिया सबने बस यही पैग़ाम
दिल जीतना अब अपना काम

Open Mind से Open Mic का 1st Chapter शुरू हुआ 
हर एक Performer ने जहां Audience के दिल को छुआ

किसी ने Music से Romantic माहौल बनाया
तो किसी ने Stand-up Comedy करके खूब हंसाया

किसी ने Flute और Guitar की जुगलबंदी की
तो किसी ने पंजाबी गानों की Parody बड़ी चंगी की

किसी ने हँसी-ठहाकों की फुलझड़ियां जलाई
तो किसी ने शायरी की रंगीन महफ़िल सजाई

किसी ने बड़े ही Feel के साथ प्यारवाली Poetry सुनाई
तो किसी ने अपनी Practical Life कविताओं में दिखाई

किसी ने सुर लगाके अपने हमसफ़र को आवाज़ लगाई
तो किसी ने अपने हमसफ़र के लिए गीतों की झड़ी लगाई

किसी ने वाह-वाह किया तो किसी ने ताली बजाई
आखिर में फिर मिलने के वादे पर हुई रस्म-ए-विदाई

है ये गए शनिवार की बात
जमके जिस रोज़ हुई बरसात
की नए दोस्तों से मुलाक़ात
कुछ हसीं बात हुई उस रात
ज़िन्दा हुए फिर से जज़्बात
हुई नए सफ़र की शुरुआत
"हस्ताक्षर" की ये है सौगात
दिल की बात, हाँ सबके साथ
दिल की बात, हाँ सबके साथ।

			

उसने पलटकर देखना भी मुनासिब ना समझा

उसने पलटकर देखना भी मुनासिब ना समझा
अपनी ज़िंदगी में हमें कभी शामिल ना समझा

कैसे चलते भला ज़िंदगी की अजनबी राहों पर
जब ज़िंदगी ने ही हमको मुसाफ़िर ना समझा

“मेरी कहानी को कहानी समझके भूल जाना”

मेरी कहानी को कहानी समझके भूल जाना
मज़ाक या फिर कोई नादानी समझके भूल जाना

नहीं चाहता कोई और मुझ जैसा बन जाएं यहां
मेरे अश्क़ों को तुम पानी समझके भूल जाना

पल में आती है, पल-पल भिगा जाती है
बारिश को तुम बेगानी समझके भूल जाना

साथ गुज़रे जो पल, वो पल बड़े हसीन थे
वक़्त की उन्हें मेहरबानी समझके भूल जाना

हो सकता है तुम्हें बुरा लगे, और गुस्सा भी आएं
बीते लम्हों को बेमानी समझके भूल जाना

आहें जितनी भी लिखी हैं, काग़ज़ के पन्नों पर
याद न रखना उन्हें कहानी समझके भूल जाना।

“बहुत दिनों के बाद बारिश हुई आज”

 

बहुत दिनों के बाद बारिश हुई आज
ज़मीन और ज़िंदगी दोनों तर हो गई

बिजली के तार पे बारिश की बूंदें जिस तरह से चलती हैं
कुछ उसी तरह ये ज़िंदगी, ज़िंदगीभर अठखेली करती है

काग़ज़ की कश्ती इन दिनों कोई नहीं बनाता
सब अपनी हस्ती बनाने में जो मसरूफ़ हैं

पानी के छपाके भी इन दिनों सहमे से रहते हैं
बुरा ना मान जाएं दीवारें, ये दीवारों से डरते हैं

कीचड़ की वज़ह से इसे मिलती है रुस्वाई
है अंदर इसके, नील समंदर सी गहराई

बादल से ज्यादा बारिश को कौन जानता है
दोनों की जुदाई में सारा आसमान रोता है

सिर्फ पानी ही नहीं, यादें भी बरसाते हैं बादल
एक अर्से तक इन आँखों को तरसाते हैं बादल

बहुत दिनों के बाद बारिश हुई आज
तिश्नगी और तन्हाई दोनों फुर्र हो गई।

आकाशवाणी (All India Radio)

Untitled-design-66
 
ये आकाशवाणी का खुद का अपना स्टेशन है
अब आप अमीन सयानी साहेब से इसकी कहानी सुनिए
 
नमस्ते बहनों और भाईयों, बड़े ही कम शब्दों में आपको बताना चाहता हूँ
के हर दौर का सबसे लोकप्रिय गीत है ये, जो मैं आपको सुनाना चाहता हूँ
 
जैसे किसी प्यासे के लिए बेहद ज़रूरी है पानी
वैसे ही मनोरंजन का मतलब है आकाशवाणी
 
श्रोताओं का शुद्ध देसी साथी है विविध भारती
बहुजन हिताय बहुजन सुखाय की भाषा इसे भाती
 
अंग्रेजों के जमाने से शुरू हुआ यह शानदार सफ़र
बंबई और कलकत्ता में लगाए गएं दो ट्रांसमीटर
 
1930 में आखिरकार हुआ जो इसका Nationalization
कहलाई ये सेवा फिर Indian Broadcasting Corporation
 
आज़ादी के दस साल बाद खूब मशहूर हुआ रेडियो
जब नाम मिला इसे आकाशवाणी All India Radio
 
1957 में जब विविध भारती का आग़ाज़ हुआ
फिल्मी गीतों के साथ विज्ञापनों का प्रसारण स्टार्ट हुआ
 
नाच मयूरा नाच, विविध भारती पर प्रसारित पहला गीत था ये
बोल थे पं. नरेंद्र शर्मा के, संगीत अनिल विश्वास का, गायक थे मन्ना डे
 
आवाज़ से दिलों पर राज करते हैं RJ
लबों से लफ़्ज़ों में एहसास भरते हैं RJ
 
अमीन सयानी साहेब की वो दिलकश आवाज़
श्रोताओं को अब तक याद है उनका जादुई अंदाज़
 
बिनाका गीतमाला के वो गीत, आज भी गुनगुनाये जाते हैं
उजालों उनकी यादों के सदैव संगीत सरिता बहाते हैं
 
फौजी भाईयों के लिए जयमाला एक सौगात है
सरहद पे तैनात सिपाही के जुड़े इससे जज़्बात हैं
 
हवामहल प्रोग्राम के जरिए, नाटक व झलकियां पेश की जाती हैं
महिलाओं के लिए महिलाओं द्वारा सखी सहेली पेश की जाती है
 
कई काबिले तारीफ़ कार्यक्रमों का अद्भुत अजायबघर है पिटारा
यूथ एक्सप्रेस में बैठे,
हैलो फरमाईश करते,
सेल्युलाइड के सितारों का सफ़र है पिटारा
 
एआईआर से जुड़े हैं मन के तार
एंटरटेनमेंट का है ये एवरग्रीन स्टार
 
साल 2007 में इसकी गोल्डन जुबली मनाई गई
फिफ्टी पूरी होने पर ऑन एयर खुशी मनाई गई
 
Gold और Rainbow हैं इसके FM Station
Music से करते ये Mind का Meditation
 
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय है इसका कर्ता-धर्ता
सौ बार सुन लो फिर भी इससे मन नहीं भरता
 
KHz वाली ख़्वाहिशें, MHz वाला माहौल बनाती हैं
दिल की Waves पे ज़िंदगी, न्यूज नग़्मे सुनाती हैं
 
बदलते जमाने के साथ-साथ बदल रहा है रेडियो
Internet, Smartphone, के साथ ही अब DTH पर है रेडियो
 
Digital Quality के साथ अब Satellite का भी साथ है
मीडिया मुगल को चाहे जितने, प्रसार भारती की अलग ही बात है
 
रेडियो मात्र मनोरंजन का साधन नहीं, और भी बहुत कुछ है
सृजन के संगीत का मनमीत, ये कला का कवच है
 
आकाशवाणी का जयपुर केंद्र सबसे निराला है
MI Road पर स्थित ये उम्मीदों का उजाला है
 
चाहे मन की बात कहनी हो, या अपना मनपसंद गाना सुनना हो
All India Radio है न, फिर चाहे कोई भी पुराना गाना सुनना हो
 
Digital इस दौर में आकाशवाणी का कोई तोड़ नहीं
ये वो खिलाड़ी है, जिसकी किसी से कोई होड़ नहीं
 
तो दोस्तों ये थी आकाशवाणी की All Time Hit दास्तान
रेडियो पर गूंज रहा है वक़्त का BlockBuster बयान
 
जमाना भले ही बदल गया, पर नहीं बदला इसका अंदाज़
ज़िंदा है ज़िंदा रहेगा, आकाशवाणी का वो उम्दा एहसास।

वो हँसने के भी बहाने ढूंढते हैं

बंजर में बारिश के फ़साने ढूंढते हैं
वो हँसने के भी बहाने ढूंढते हैं

दुःखी होते हैं जब लोग अक्सर
नए जमाने में यार पुराने ढूंढते हैं

लापता हो जाता है पता जिनका
ज़िंदगीभर वो बीते जमाने ढूंढते हैं

ख़याल तो बंजारे हैं, बेबाक चले आते हैं
बंजारे भला कब यूं ठिकाने ढूंढते हैं

खो जाते हैं जो किसी दौर के दौरान
खुद को वो लिखने के बहाने ढूंढते हैं

गर इसे तरक्की कहते है तो नहीं चाहिए ऐसी तरक्की
नीची सोच वाले ऊंचे घराने ढूंढते हैं।

बोल तो सही, आखिर क्या चाहता है तू खुद से

CYMERA_20150412_165325.jpg

चीख-चीखकर मेरी ख़ामोशियां कह रही हैं मुझसे
बोल तो सही, आखिर क्या चाहता है तू खुद से

अंदर ही अंदर ये कैसा बवंडर उठ रहा है
भीतर-भीतर दिल दा समंदर जल रहा है

क्यों मिटा रहा है तू अपनी हस्ती को
क्यों जला रहा है तू अपनी बस्ती को

चीख-चीखकर सभी सरगोशियां कह रही हैं मुझसे
बता तो सही, आखिर क्या चाहता है तू खुद से

ना बताता है ना जताता है, बस खुद को खुद में छुपाता है
जितना हंसाता है उतना रुलाता है, खुद को क्यों सताता है

बस बहुत हुआ, खत्म कर अब इस सिलसिले को
बढ़ भी जा अब आगे तू, ना याद रख पिछले को

चीख-चीखकर मेरी ख़ामोशियां कह रही हैं मुझसे
बोल तो सही, आखिर क्या चाहता है तू खुद से।

“नाहरगढ़ किला जयपुर” (Nahargarh Fort Jaipur)

IMG_20180701_145305.jpg

जो भी जयपुर आता है, वो यहां ज़रूर जाता है
दोस्तों ये नायाब किला, नाहरगढ़ कहलाता है

यहां से मीठी यादें जुड़ी हैं, दिल की दिलकश बातें जुड़ी हैं
यहां आके हर ज़िन्दगी, आज़ाद खुले आसमान में उड़ी हैं

नाहरगढ़ जाने वाले सभी रास्तें एडवेंचर से भरे हैं
मोड़ पे मोड़ ऊपर से संकरी रोड़, ये डेंजर से भरे हैं

सवाई जयसिंह ने इसे सन् 1734 में था बनवाया
सुदर्शन मंदिर की वजह से ये सुदर्शनगढ़ कहलाया

कहते है कि बरसों पहले, यहां एक बाबा का वास था
पहुंची हुई हस्ती, नाहरसिंह भोमिया उनका नाम था

ज्योंही मजदूर दिन में थोड़ा किला बनाते
रात को बाबा आकर उसे ध्वस्त कर जाते

आखिरकार एक सिद्ध तांत्रिक ने उन्हें मना लिया
किसी दूसरी जगह पर स्थापित उन्हें करवा दिया

बस तब से ही ये किला नाहरगढ़ कहलाने लगा
सैलानियों का दिल, दिल खोलके बहलाने लगा

सवाई माधोसिंह ने यहां एक जैसे 9 महल बनवाएँ
अपनी 9 प्रेमिकाओं के नाम पे उनके नाम रखवाएँ

ये सारे महल आपस में एक ही सुरंग से जुड़े हुए हैं
मौसम के मुताबिक यहां, हवा-रौशनी बिखरे हुए हैं

सूरज, खुशहाल, जवाहर, ललित, ये हैं पहले 4 महल
आनंद, लक्ष्मी, चांद, बसंत, फूल, बाक़ी के 5 महल

सारे महलों का सरनेम प्रकाश हैं
नाहरगढ़ से नजदीक ही आकाश है

अय्याश महाराजा जगतसिंह की माशूका को यहीं क़ैद रखा गया था
आलीशान अतिथिगृह में कनीज़ रसकपूर को नज़रबंद किया गया था

पानी बचाने के लिए जो एक बावड़ी बनाई गई थी
छोरे-छोरियां सब आजकल वहीं पर लेते हैं सेल्फी

आमिर ख़ान की फिल्म रंग दे बसंती ने इसे वर्ल्ड फेमस कर दिया
बाद उसके तो हर प्राणी ने यहीं आके अपडेट अपना स्टेटस किया

इस बार दिवाली की रात, जनाब आप नाहरगढ़ ज़रूर जाएं
और अपने पिंकसिटी को, सितारों सा जगमगाता हुआ पाएं

जो भी जयपुर आता है, वो यहां ज़रूर जाता है
ऐत्थे जाते ही दोस्तों, साड्डा दिन बन जाता है।

कई दिनों तक एक ही राह पे चलते रहना रुकने जैसा लगता है

DSC_0167.jpg
कई दिनों तक एक ही राह पे चलते रहना रुकने जैसा लगता है
अपने दिल की ना सुनना, अपने ही आगे झुकने जैसा लगता है
 
अपनी बेहतरी केे लिए बेहतर को छोड़ देना इतना आसान नहीं
हर बार बार-बार हज़ार बार डर के आगे दम तोड़ देती है ज़िंदगी
 
एक दोस्त ने लिखा था कभी, के ना चलना तो मौत की निशानी है
मगर बेवज़ह मुसलसल चलते रहना भी तो वक़्त की मनमानी है
 
मन करता है मेरा भी कभी, किसी शज़र के साये में थोड़ा सुस्ता लूं
अपनी सारी बेचैनियों को पलकों के गीले पर्दों के पीछे कहीं छुपा दूं
 
मगर फिर डर लगता है कि कहीं यह ठहराव मुझे चलना ना भुला दे
जमकर जगने से पहले कहीं यह छाव मुझे गहरी नींद में ना सुला दे
 
पहले भी अपने लिए कई जुनूनी फैसले ले चुका हूँ
उन्हीं फैसलों के दम पर आज बाहें फैलाएं खड़ा हूँ
 
अपनी ज्यादा गलतियां करने की आदत से परेशान नहीं हूँ
दिल खोलकर दिलवाली मनमर्ज़ियां करने से हैरान नहीं हूँ
 
देखते है इस बार किस अजनबी राह को हमराह बनाती है ज़िंदगी
देखते है इस बार किस तरह से क्या-क्या गुर सिखाती है ज़िंदगी
 
कई दिनों तक एक ही राह पे चलते रहना अच्छा नहीं
अपने दिल की ना सुनना, हाँ रत्ती भर भी सच्चा नहीं…

थोड़ा पाया है बहुत खोया है

थोड़ा पाया है बहुत खोया है
ये कैसा बीज ज़िंदगी ने बोया है

लबों तक आते-आते हर बार, दम तोड़ देते हैं जज़्बात
क्यूं वो अब तक नहीं रोया है

ना ख़्वाब आते हैं, ना सुकून मिलता हैं
जाने कैसी गहरी नींद में सोया है

सब्र भी अब तो जवाब देने लगा है
दिल ने इतना बोझ ढ़ोया है

मन का मोती खो चुका है कहीं
जाने किस धागे में पिरोया है

दिल ने क्या हसीं सितम किया है
थोड़ा हंसा है बहुत रोया है

कभी रौशन होके तो दिखा

इससे पहले कि ज़िंदगी का बल्ब फ्यूज हो जाएं
इससे पहले कि तू किसी दोराहे पे कंफ्यूज हो जाएं
 
एलईडी की तरह एक बार फुल टू जगमगाके तो दिखा
है तेरे भीतर कितनी ऊर्जा, कभी रौशन होके तो दिखा
 
इस तरह ज़ीरो वाट की रौशनी में जीने का क्या मतलब है
बिल की चिंता में तिल-तिल मरना बेवकूफी भरा करतब है
 
तेरे भीतर का वो रूहानी टंगस्टन तू कब जलाएगा
कब तू खुद जलके औरों को रौशन जहां दिखाएगा
 
बिजली की टेंशन है मगर ज़िंदगी की नहीं
बिल की टेंशन है मगर अपने दिल की नहीं
 
वहम तो विद्युत विभाग की तरह गलत रीडिंग ही देगा
मीटर सदैव चालू रखेगा ये बत्ती रोज़ाना गुल ही करेगा
 
इससे पहले कि ज़िंदगी की ट्यूबलाइट फ्यूज हो जाएं
इससे पहले कि तू किसी के हाथों मिसयूज हो जाएं
 
सूरज की तरह एक बार खुद को चमकाके तो दिखा
है तेरे भीतर अभी बहुत आग, जमके शोले तो बरसा
 
इस तरह ज़ीरो वाट वाली ज़िंदगी जीने का कोई मतलब नहीं
एसी की टेंशन में अपनी ऐसी तैसी कराने का कोई मतलब नहीं…

Aravali Range (अरावली पर्वतश्रृंखला)

banner-2

दुनिया की सबसे पुरानी वलित पर्वतमाला है अरावली
प्री क्रैम्बियन काल के पहाड़ों की महागाथा है अरावली

भूगोल के अनुसार यह प्राचीन गोंडवाना लैंड का हिस्सा है
राजपूताना से लेकर दिल्ली तक मशहूर इसका किस्सा है

थार के रेतीले टीलों को आगे बढ़ने से सिर्फ यही रोकती है
मगर मानसून के पैरेलल है, सो बादलों को नहीं रोकती है

राजस्थान के 17 जिलों में इसका व्यापक विस्तार है
कुदरत का करिश्मा यह सदियों पुराना कोहसार है

राजस्थानी भाषा में इसे आडावाळा डूंगर कहते हैं
इसकी सबसे ऊंची चोटी को गुरू शिखर कहते हैं

झीलों की नगरी से इसका गहरा लगाव है
अजमेर जिले में सबसे कम फैलाव है

समंदर के तल से औसत ऊंचाई है 930 मीटर
अरावली की कुल लंबाई है 692 किलोमीटर

उत्तर, मध्य और दक्षिण, बेसिकली तीन हिस्सों में बंटी हुई हैं
गुजरात के पालनपुर से लेकर राष्ट्रपति भवन तक फैली हुई है

पांच प्रमुख दर्रे इसके नाल कहलाते हैं
मेवाड़ के पठार ऊपरमाल कहलाते हैं

बाड़मेर में छप्पन की पहाड़ियां, तो अजमेर में मेरवाड़ा की पहाड़ियां
गर सीकर में है हर्ष पर्वत मालखेत, तो जालौर में सुंधा की पहाड़ियां

उदयपुर का उत्तर-पश्चिमी भाग मगरा कहलाता है
तश्तरीनुमा पहाड़ियों को जहां गिरवा कहा जाता हैं

लूनी और बनास नदी इसका विभाजन करती हैं
सिरोही की बेतरतीब पहाड़ियां भाकर कहलाती हैं

जोधपुर का मेहरानगढ़ हो या अजमेर का तारागढ़
अरावली के सीने पर सुशोभित हैं ऐसे अनेकों गढ़

भले ही मानसून को रोक पाने में असफल है अरावली
मगर थार को रोक पाने में यक़ीनन सफल है अरावली

बस इतनी सी इस महान पर्वतश्रृंखला की कहानी है
प्राचीन इतिहास की ये अद्भुत अद्वितीय निशानी है।

ज़िन्दगी का समोसा

Aloo-Samosa-1.jpg
ज़िन्दगी का समोसा बड़ा ही करारा है
जल्दी से खालो इसे, ये मिलता नहीं दोबारा है
 
चाहत की चटनी नहीं है, तो क्या ग़म है
तन्हाई का तेल, तर रखता इसे हरदम है
 
सुबह-सुबह नाश्ते में अच्छा लगता है
ये अजनबी रास्ते में अच्छा लगता है
 
अहमियत न हो तो बहुत ही सस्ता है
कुरकुरापन लिए ये बहुत ही ख़स्ता है
 
दबे कुचले अरमानों के आलू इसमें दम भरते हैं
खुशबू और लज़्ज़त में कई गुना इज़ाफ़ा करते हैं
 
पेट भले ही भर जाएं, मगर दिल है कि भरता नहीं
पाकर इसे डाइटिंग करने को दिल कभी करता नहीं
 
बेशक इसे तैयार करने वाला, बड़ा ही बेनज़ीर कारीगर है
तारीफ उसकी मुमकिन नहीं, वो कायनात का क्रिएटर है
 
ज़िन्दगी का समोसा बड़ा ही चटपटा है
जी भरके खालो इसे, ये वन पीस ही मिलता है।

बोले तो आज अपुन का हैप्पी बर्थडे है

CYMERA_20150825_072616

बोले तो आज अपुन का हैप्पी बर्थडे है
कोई केक मुंह पे नी लगाएगा, शर्त यही है

पार्टी का टेंशन नहीं लेने का
सैटरडे सैटरडे करते रहने का

विदाउट एनी ब्लूटूथ, लाइफ के टफ़ एग्जाम में पासिंग मार्क्स आए हैं
मेहनत से बुरे वक़्त को मामू बनाकर, किस्मत के स्टार्स जगमगाए हैं

शिद्दत वाले सर्किट ने भी हर क़दम खूब साथ निभाया
टेंशन नहीं लेने का भाई कहके अपुन का हौसला बढ़ाया

ये केक काटने की फॉर्मेलिटी अपुन को नहीं जचती है
अपुन को तो अक्खी लाइफ ही अपना बर्थडे लगती है

साला ये अंग्रेज लोग भी पता नहीं क्या-क्या सिखा गए
आज ये दिन कल वो दिन, नित नए ठपले बतला गए

बोले तो हर दिन मस्त रहने का, खुलकर जीने का
शानदार शौक पालने का, मगर नशा नहीं करने का

अपने अंदर की आग को सुलगते गैस कटर में बदल दो यारों
फिर कोई सामाजिक डीन तु्म्हें आगे बढ़ने से नहीं रोक सकता

बोले तो आज अपुन का हैप्पी बर्थडे है
बिंदास जीने का झक्कास रहने का, यही अर्ज़ है

 

राह चलते अजनबियों की मदद कर देता हूँ

राह चलते अजनबियों की मदद कर देता हूँ
कुछ इस तरह अपने गुनाह कम कर देता हूँ
 
बहुत तलाशने के बाद भी, जब कोई ख़बर ना मिले
मैं उस सिलसिले को वहीं खत्म कर देता हूँ
 
इल्ज़ाम लगाने वाले, अपने गिरेबां में झांकते नहीं
दोगली दलीलें बिन सुने ही रद्द कर देता हूँ
 
उसकी याद तो अब भी आती है, बहुत आती है
नहीं आती तो वो, ऐसे में जीना कम कर देता हूँ
 
जब दिल का नाम लेकर कोई दिल तोड़ देता है
दिल के दरवाज़े सबके लिए बंद कर देता हूँ
 
खुद को पाने चला था, ख़ुद ही से हार गया
कभी-कभी तो ख़ुदगर्ज़ी की भी हद कर देता हूँ
 
ज़िंदगी की कश्ती, जब कभी डूबने लगती है
अश्क़ों का सैलाब बहाकर खुद उसे गर्क़ कर देता हूँ।

ईद मुबारक

ना वो इब्राहिम सा ईमान बचा है
ना वो आदम सा इंसान बचा है

फिर भी सब कह रहे हैं ईद मुबारक
अब तो बस दिल में यही गुमान बचा है

ये दिल है जनाब इस दिल का यही फ़साना है।

दिल के बारे में मैंने तो बस इतना ही जाना है
न जाना हो जिधर इसे तो बस उधर ही जाना है
 
कई साल हो चुके हैं, न बूढ़ा होता है न मरता है
ऐसा लगता है दिल तो फिल्मी कोई दीवाना है
 
एक बार जो इसे तोड़ दे, जुड़कर भी जुड़ता नहीं
ग़ैरों से नहीं दिल तो अपने आप से बेगाना है
 
चाहतों के पीछे-पीछे, ज़िंदगीभर भागता रहता है
किसी को बताता नहीं क्या इसको पाना है
 
हर बार नया लालच देकर फांस लेता है,
गुंडों का कबीला खुद को समाज कहता है
जमाना आज से नहीं इसका दुश्मन पुराना है
 
तन्हाई अक्सर डराती है इसे,
हज़ारों बार आज़्माती है इसे
जानता है इसे तो बस अपना साथ निभाना है
 
अंगारे बिछे हो जिधर, नंगे पाव उधर ही जाना है
ये दिल है जनाब इस दिल का यही फ़साना है।

नज़र नहीं आता अब वो इंसान मेरे अंदर

IMG-20150220-WA0001.jpg
नज़र नहीं आता अब वो इंसान मेरे अंदर
पर बाक़ी है उसके कुछ निशान मेरे अंदर
 
रफ़्ता रफ़्ता जो राहत मिली थी, ज्यादा देर न रुक पाई
आबाद हर गली है वो सुनसान मेरे अंदर
 
एक ज़लज़ले ने सब कुछ तबाह किया, फ़ना किया
नज़र आते हैं उजड़े वो मक़ान मेरे अंदर
 
बहुत कुछ कर सकता हूँ, बिना कुछ किए ही
बाक़ी है अब भी इतनी तो जान मेरे अंदर
 
पलकों के घर में, सपनों के टुकड़े चुभने लगेेे हैं
बिखर चुका है ख़्वाबों का जहान मेरे अंदर
 
परछाई बोलती है जिसकी, बिना अल्फ़ाज़ के आवाज़ के
रहता है कहीं साया एक बेज़ुबान मेरे अंदर
 
बहुत बुलाने पर थोड़ा आता है, शायद वो शख़्स शर्माता है
ऐसा लगता है जैसे है वो मेहमान मेरे अंदर
 
इक रोज़ घर में बहुत कुछ हुआ, हर तरफ बस धुआं ही धुआं
बाद उसके नहीं दिखा वो इरफ़ान मेरे अंदर।

महसूस करो नमी मेरी, अश्क़ हूँ मैं पलकों से बहता हूँ

तुम्हें शायद मालूम नहीं मैं तुम्हारी आँखों में रहता हूँ
महसूस करो नमी मेरी, अश्क़ हूँ मैं पलकों से बहता हूँ

कई रोज़ गुज़र जाते हैं, मगर गुज़रती नहीं वो इक रात
उस इक रात की हर बात अपने आँसुओं से लिखता हूँ

मुसाफ़िर कई मिलते हैं रोज़, मिलकर वो बिछुड़ते हैं रोज़
मील के पत्थर सा टकटकी बाँधें उन्हें बस देखता हूँ

उसने तो बड़ी आसानी से एक रोज़ अलविदा कह दिया
और मैं हूँ के अब तलक अलविदा कहने से डरता हूँ

जब इंतज़ार दम तोड़ देता है, और साया भी साथ छोड़ देता है
उस वक़्त एक बदलाव अपने अंदर महसूस करता हूँ

मज़ाक भी उड़ाया गया, और मज़ार भी बनाया गया
ज़िंदगी के ज़ुल्मो सितम बड़ी ही ख़ामोशी से सहता हूँ

भूले भटके से ही आना कभी, पता है मेरा अब भी वहीं
सच कहता हूँ दिल के बेघर घर में मैं अब भी रहता हूँ।

बड़ी ख़ामोशी से लब लफ़्ज़ तलाशते हैं

हर शख़्स में अपना अक्स तलाशते हैं
बड़ी ख़ामोशी से लब लफ़्ज़ तलाशते हैं

मिलके भी मिलता नहीं, शिकायत यही रहती है क्यों
ग़ैरों में हम अपने जैसा शख़्स तलाशते हैं

कुसूर सारा नज़रों का हैं, सब जानते हैं सब मानते हैं
फिर भी जाने क्यों वही नक़्श तलाशते हैं

सीने में शीशे सा दिल लेकर, ज़िंदगी भर
न टूटे कभी जो वो तिलिस्म तलाशते हैं

आखिर में कुछ बचता नहीं, कहीं कोई रस्ता नहीं
रूह को ठुकराकर बस जिस्म तलाशते हैं

इसे तन्हाई का तकाज़ा कहे, या शायर का वहम
ग़ज़ल में लोग आजकल नज़्म तलाशते हैं

ये दुनिया वाले हैं, इन्हें क्या फर्क़ पड़ता हैं
ये तो मौत में भी एक रस्म तलाशते हैं।

आज़ादी हो गई इतनी सस्ती

बूंदी का एक लड्डू और दिन भर की देशभक्ति
यक़ीन नहीं होता आज़ादी हो गई इतनी सस्ती

महज झंडा फहरा लेने से फर्ज़ अदा नहीं हो जाता
जोशीले गानों से मिट्टी का क़र्ज़ अदा नहीं हो जाता

सही मायने में इस आज़ादी का मतलब क्या है?
किसी को इससे कोई मतलब नहीं, यही समस्या है

मैं ये नहीं कहता कि जश्न मनाना गलत है
मगर इस आज़ादी की बहुत बड़ी कीमत है

जिसे चुकाने से पहले हर बंदा हज़ार बार सोचता है
सिर्फ मैं ही क्यों, बस यही ख़याल मुल्क़ को तोड़ता है

साल में एक दिन वतनपरस्ती दिखाने वालों, सुन लो ये
इस दिखावे के बजाए देश के लिए सच में कुछ करे दिल से

खूब खुशियां मनाएं, चाहे घी के दिये जलाएं
पर उन शहीदों की क़ुर्बानी, हम भूल ना जाएं

सिर्फ दो दिन नहीं, पूरे साल ये जश्न चलता रहे
दिन दूनी रात चौगुनी, तरक्की वतन करता रहे।

परियों की तरह रौशन है किरदार तु्म्हारा

परियों की तरह रौशन है किरदार तु्म्हारा
सदियों से न सोई आँखों में है इंतज़ार तुम्हारा

बंजर में गुलशन लगती हो, बहार सी मल्हार सी
बारिश की बूँदें छूकर होता है एहसास तु्म्हारा

तुम्हारी ज़ुल्फ़ों में ख़ूब जचता है, चमेली का वो फूल
फूलों की तरह महकता है हर अंदाज़ तुम्हारा

वैसे तो ख़्वाहिशों की कोई इंतहा नहीं, कोई दवा नहीं
फिर भी ज्यादा कुछ नहीं मांगू मैं साथ तु्म्हारा

तु्म्हारे कुर्ते पे जितने फूल बने हैं, उतने ही मैंने सपने बुने हैं
बेसबब हर शब अब देखता हूँ मैं ख़्वाब तु्म्हारा

गर कर सको तो करो यक़ीं, एक वादा करता हूँ अभी
न तोड़ा है न तोडूंगा जानाँ कभी ऐतबार तु्म्हारा

मेरी ग़ज़ल भी तुम हो, शायरी का दिल भी तुम हो

दोस्तों के दरमियां हिसाब नहीं होते हैं

कुछ सवालों के जवाब नहीं होते हैं
दिल के चेहरों पे नक़ाब नहीं होते हैं

बहुत कुछ बह जाता है, फिर भी बाक़ी रह जाता है
आँखों में हर वक़्त ख़्वाब नहीं होते हैं

बस एक रिश्ते ने ज़िंदगी का फ़लसफ़ा समझा दिया
दोस्तों के दरमियां हिसाब नहीं होते हैं

वक़्त की आंधी से भला, कौन बच पाया है यहां
बेवज़ह तो रिश्ते ख़राब नहीं होते हैं

भीतर से निखार देता है, बुरा वक़्त सुधार देता है
बिना काँटों के फूल गुलाब नहीं होते हैं

गर मोहब्बत गुनाह है, तो गुनाह ये क़ुबूल है
ऐसे गुनाहों के अज़ाब नहीं होते हैं

धोखा खाकर हमने तो यही सीखा है इरफ़ान
सब इंसान यहाँ खुली किताब नहीं होते हैं।

दफ्तर की वो लड़की याद है अब तक

दफ्तर की वो लड़की याद है अब तक
उसकी इक मुस्कान साथ है अब तक

उसने तो पलभर में दूूरियों का दामन थाम लिया
दूर होकर भी मेरे वो पास है अब तक

उसका चेहरा किसी की याद दिलाता है मुझे
वो चेहरा मेरे लिए ख़ास है अब तक

क़िस्मत ने मिलवाया, ज़रूरत उसे बनाया
उसका मिलना एक राज़ है अब तक

सागर भी सारा पी लिया, नदियां भी समेट ली
फिर भी लबों पे इक प्यास है अब तक

जिस रोज़ उसे देखा था, देखता ही रह गया
उसकी आँखों का नूर याद है अब तक

कई बरस हो गए हैं, मनाते हुए रोते हुए
न जाने क्यों ज़िंदगी नाराज़ है अब तक।

जो अलविदा कह दे कोई तो ज़िंदगी इंतज़ार हो जाती है

20140824_154408

आंसुओं को छुपाने की हर कोशिश बेकार हो जाती हैं
बेचैनियां जिस वक्त मेरे सिर पे सवार हो जाती हैं

लाख मनाओ इस दिल को, दिल है ये माने कहां
दिल को मनाने की ज़िद में ज़िंदगी मज़ार हो जाती है

बहुत वक़्त दिया मैंने, खुद को भी और उसको भी
फिर भी हर बार मेरी तन्हाई से तकरार हो जाती है

कोई क़लम से वार करता है, तो कोई सितम बेशुमार करता है
एक ख़बर में सिमटकर ये ज़िंदगी अख़बार हो जाती है

वैसे तो वैसा कोई मिला नहीं, जैसा मुझको मिला कभी
दिख जाए गर कोई वैसा तो ये आँखें बेक़रार हो जाती हैं

किसी से दिल मिलता नहीं, किसी से दिल भरता नहीं
पता नहीं क्यों मुझसे यही ख़़ता हर बार हो जाती है

एक अलविदा कहने में ये ज़ुबान बेज़ुबान हो जाती है
जो अलविदा कह दे कोई तो ज़िंदगी इंतज़ार हो जाती है।

दर्द महसूस भी होता है, दिल आज भी तड़पता है

दर्द महसूस भी होता है, दिल आज भी तड़पता है
तेरी एक झलक के लिए दिल आज भी तरसता है

बहुत ढ़ूंढा मैंने तुझको, ना मिली तू मुझको
तेरे इंतज़ार में बेक़रार दिल आज भी धड़कता है

कभी खुशबू तो कभी साये के पीछे भागता हूँ

बारिश में भीगकर भी मैं प्यासा रह जाता हूँ
कभी खुशबू तो कभी साये के पीछे भागता हूँ

मेरी नींद का फ़लसफ़ा बस इतना समझ लीजिए
पलकों के ऊपर सोता हूँ पलकों के नीचे जागता हूँ

तुम्हारी ख़ामोशी

तुम्हारी ख़ामोशी बहुत कुछ बोल देती है
बिना बोले ही यह लफ़्ज़ों के मोल देती है
अनकहे एहसास की गिरह खोल देती है
अंदरूनी आवाज़ की सतह टटोल देती है
तुम्हारी ख़ामोशी बहुत कुछ बोल देती है

इसी ख़ामोशी ने तो लबों को लरज़ना सिखाया है
इसी ख़ामोशी ने तो पलकों को झपकना सिखाया है
इसी ख़ामोशी ने तो दिल को धड़कना सिखाया है
इसी ख़ामोशी ने तो खुशबू को महकना सिखाया है

तुम्हारी ख़ामोशी बहुत कुछ बोल देती है
बिना बोले ही यह सांसें कुछ और देती है
सिले हुए लबों की हर गिरह खोल देती है
ठहरे हुए आंसुओं की नमी टटोल देती है
तुम्हारी ख़ामोशी बहुत कुछ बोल देती है

इसी ख़ामोशी के इंतज़ार में कुछ अल्फ़ाज़ अब तक अधूरे हैं
पूरा करने के लिए जिन्हें मुझे तु्म्हारे एहसास की ज़रूरत है
इस ख़ामोशी की चादर में, मुझको भी छुपा लो न जानाँ
बहुत दिन हो गए हैं शोर में पलते हुए, दिल ने ये माना

तुम्हारी ख़ामोशी बहुत कुछ बोल देती है
बिना बोले ही यह लफ़्ज़ों के मोल देती है
अनकहे एहसास की गिरह खोल देती है
अंदरूनी आवाज़ की सतह टटोल देती है
तुम्हारी ख़ामोशी बहुत कुछ बोल देती है

के दिल आ जाता है दिल के किस्सों पर

उसकी आँखों के पन्नों पर
मुझे ऐतबार है अपने लफ़्ज़ों पर
हर बार ये कुछ ऐसा लिख जाते हैं
के दिल आ जाता है दिल के किस्सों पर
ये दिल आ जाता है दिल के हिस्सों पर…

वो नज़दीकियों का मतलब दूरी समझ बैठी…

मोहब्बत को मेरी मज़बूरी समझ बैठी
होके वो दूर, दूरियों को ज़रूरी समझ बैठी

मैं करता रहा इंतज़ार, हर पल पल-पल उसका
वो नज़दीकियों का मतलब दूरी समझ बैठी…

अब पूछ ही लिया है तो सुन ये, बहुत प्यार करता हूँ तुमसे मैं

अब पूछ ही लिया है तो सुन ये
बहुत प्यार करता हूँ तुमसे मैं
इतना के बता भी नहीं सकता
जज़्बात ये जता भी नहीं सकता
गर महसूस कर पाओ तो करो इसे
बंद आँखों से जी भरके निहारो इसे
ये वो एहसास है जो साँसों में बसता है
ये वो अल्फ़ाज़ है जो आँखों में दिखता है
बस इसे पढ़ने का हुनर आना चाहिए
बाक़ी तो सब दिल के हवाले कर देना चाहिए

अब पूछ ही लिया है तो सुने ये
तुमसे ज्यादा तु्म्हें चाहता हूँ मैं
इतना के सोच भी नहीं सकती तुम
सोचना ये छोड़ भी नहीं सकती तुम
गर मुझ पे यक़ीन है तो यक़ीन करो
आसमान हूँ मैं तुम मेरी ज़मीन बनो
अगली बार मत पूछना के क्यों चाहता हूँ तुम्हें मैं
इस सवाल का जवाब तो खुद पता नहीं है मुझको…

कैसी दिखती हो तुम? देखो कभी मेरी नज़र से

कैसी दिखती हो तुम? देखो कभी मेरी नज़र से
जो देखोगी, तो प्यार हो जाएगा पहली नज़र में

बारिश की बूँदें बताएंगी तुम्हें, क्या है अक्स तुम्हारा
आँखें ये मूंदे दिखाएंगी तुम्हें, बेहद दिलकश नज़ारा
इन आँखों को किसी चश्मे की ज़रूरत नहीं
बिन देखे ही अक्सर ये बहुत कुछ देख लेती हैं

अकेली राहों का पता, पूछो कभी तन्हा सफ़र से
बीते लम्हों का पता, ढूंढो कभी यादों के शहर में
कैसी दिखती हो तुम? देखो कभी मेरी नज़र से
जो देखोगी, तो प्यार हो जाएगा पहली नज़र में

एक शख़्स है जो तुमसे बेपनाह मोहब्बत करता है
बिना निगाहों के भी तुम को अपने अंदर देखता है
इज़हार करने के लिए सही मौका तलाश रहा है
वो जो एक अरसे तक ज़िन्दा एक लाश रहा है

नूरानी रातों का पता, पूछो कभी संदली सहर से
बीती बातों की अदा, ढूंढो कभी साँसों की लहर में
कैसी दिखती हो तुम? देखो कभी मेरी नज़र से
जो देखोगी, तो प्यार हो जाएगा पहली नज़र में…

बारिश में अक्सर तुम याद आती हो

बारिश में अक्सर तुम याद आती हो
बूँदों के संग-संग मिलने चली आती हो
हवाओं से पुरानी यारी है मेरी
समझती है सारी बेक़रारी ये मेरी
तभी तो घने बादलों को नचाती है वो
बारिश में अक्सर तुम याद आती हो

अंदर के समंदर की बेचैनी जब भाप बनकर उठती है
घनघोर घटाओं का ताना-बाना ये फौरन बुन लेती है
पहाड़ों की दीवार से जब टकराती है वो
ठंडक मिले जहाँ वहीं बरस जाती है वो
बंजर को गुलशन हरदम बनाती है वो
बारिश में अक्सर तुम याद आती हो

मगर इन दिनों ना घटा है, ना हवा है, ना दुआ है
तभी तो ना बारिश होती है, ना ही तुम नज़र आती हो
और ना ही मुझको वो सुर, राग मल्हार आता है
गाकर जिसे मैं जब चाहूँ बुला लूं तुझे पास अपने
हाँ आता है तो बस बरसती हुई बारिश में भीग जाना
नज़र आता है तो बस बारिश में भीगा हुआ तेरा चेहरा
बारिश में अक्सर तुम याद आती हो
बूँदों के संग संग मिलने चली आती हो