“My Rajasthan”

रंग रंगीलो राजस्थान, रंगीले सब रूप और भेस
मेहमान को हम कहते जहाँ, पधारो नी म्हारे देस

पन्ना-मीरा की धरती यह, बलिदान से मांग भरती है
रणबाँकुरों की जननी यह, वीर रस स्वांग रचती है

मिसरी सी मीठी बोली, प्रेम की पावन परिभाषा
हर चार कोस के बाद जहाँ, बदल जाती हैं भाषा

रेतीले धोरों के दरमियां, ज़िन्दगी मुस्कुराती है
मिट्टी की खुशबू लिए, लोकगीत गुनगुनाती हैं

फौलादी किलों की तरह, मज़बूत हैं इरादे यहाँ
मासूम दिलों की तरह, लोग हैं सीधे सादे यहाँ

सहनशीलता और कर्मठता, मिट्टी में इसकी घुली
त्याग ओज़ वचनबद्धता, विरासत में इसको मिली

इतिहास के पन्नों पर, दर्ज़ हैं जितनी कहानियां
वीरों की वो अमर गाथाएं, शौर्य की निशानियां

राजपूताना की यह आन बान, रखे सदा सबका मान
रण हो चाहे कृषि विज्ञान, बढ़ाई हमेशा हिंद की शान

विकास विद हैरिटेज की, नई डगर पर चल निकला है
बीमारू स्टेट की इमेज से, अब जाकर यह निकला है

सतरंगी जय राजस्थान, अतरंगी अंचल परिवेश
मेहमान को सब कहते जहाँ, पधारो नी म्हारे देस

सर्वाधिकार सुरक्षित © 2016
राॅकशायर इरफ़ान अली ख़ान
‪#‎विषयवस्तुआधारितकविताएं‬(विआक)

बारिश में अक्सर तुम याद आती हो

बारिश में अक्सर तुम याद आती हो
बूँदों के संग-संग मिलने चली आती हो
हवाओं से पुरानी यारी है मेरी
समझती है सारी बेक़रारी ये मेरी
तभी तो घने बादलों को नचाती है वो
बारिश में अक्सर तुम याद आती हो

अंदर के समंदर की बेचैनी जब भाप बनकर उठती है
घनघोर घटाओं का ताना-बाना ये फौरन बुन लेती है
पहाड़ों की दीवार से जब टकराती है वो
ठंडक मिले जहाँ वहीं बरस जाती है वो
बंजर को गुलशन हरदम बनाती है वो
बारिश में अक्सर तुम याद आती हो

मगर इन दिनों ना घटा है, ना हवा है, ना दुआ है
तभी तो ना बारिश होती है, ना ही तुम नज़र आती हो
और ना ही मुझको वो सुर, राग मल्हार आता है
गाकर जिसे मैं जब चाहूँ बुला लूं तुझे पास अपने
हाँ आता है तो बस बरसती हुई बारिश में भीग जाना
नज़र आता है तो बस बारिश में भीगा हुआ तेरा चेहरा
बारिश में अक्सर तुम याद आती हो
बूँदों के संग संग मिलने चली आती हो

दर्द महसूस भी होता है, दिल आज भी तड़पता है

दर्द महसूस भी होता है, दिल आज भी तड़पता है
तेरी एक झलक के लिए दिल आज भी तरसता है

बहुत ढ़ूंढा मैंने तुझको, ना मिली तू मुझको
तेरे इंतज़ार में बेक़रार दिल आज भी धड़कता है

दफ्तर की वो लड़की याद है अब तक

दफ्तर की वो लड़की याद है अब तक
उसकी इक मुस्कान साथ है अब तक

उसने तो पलभर में दूूरियों का दामन थाम लिया
दूर होकर भी मेरे वो पास है अब तक

उसका चेहरा किसी की याद दिलाता है मुझे
वो चेहरा मेरे लिए ख़ास है अब तक

क़िस्मत ने मिलवाया, ज़रूरत उसे बनाया
उसका मिलना एक राज़ है अब तक

सागर भी सारा पी लिया, नदियां भी समेट ली
फिर भी लबों पे इक प्यास है अब तक

जिस रोज़ उसे देखा था, देखता ही रह गया
उसकी आँखों का नूर याद है अब तक

कई बरस हो गए हैं, मनाते हुए रोते हुए
न जाने क्यों ज़िंदगी नाराज़ है अब तक।

Toh Baat Bane

कहती है तन्हाई अक्सर ये मुझसे के तुम आओ तो बात बने
थक गई निगाहें राह तकते-तकते तुम आओ तो बात बने

तेरी परछाई का नामोनिशां नज़र तक नहीं आता कहीं अब
इंतज़ार में है इंतज़ार जो मिलने तुम आओ तो बात बने

रुख़्सत के वक़्त भले ही अपना सब कुछ वापस ले जाना
पर अलविदा से पहले इक़रार करने तुम आओ तो बात बने

मेरे नसीब में क्या है ये तो मैं नहीं जानता
मगर हबीब मेरे गर नसीब में मेरे तुम आओ तो बात बने

एक अर्से से दिल ये मेरा टूटा हुआ आईना है
गर इस आईने में अक्स देखने तुम आओ तो बात बने

दूरियों ने बहुत कोशिश की हैं हमें दूर-दूर करने की
जो अब दिल से दूरियां मिटाने तुम आओ तो बात बने

ये ज़िंदगी तो ख़ैर यूँही तन्हा गुज़र गई इरफ़ान
गर फ़िरदौस में मेरा साथ देने तुम आओ तो बात बने।

उसने पलटकर देखना भी मुनासिब ना समझा

उसने पलटकर देखना भी मुनासिब ना समझा
अपनी ज़िंदगी में हमें कभी शामिल ना समझा

कैसे चलते भला ज़िंदगी की अजनबी राहों पर
जब ज़िंदगी ने ही हमको मुसाफ़िर ना समझा

“प्यारे नबी”

जिनके सदक़े में बनी है ये पूरी क़ायनात
ज़िक्र होता है जिनका सदा ख़ुदा के साथ

अज़ीम पाकीज़ा शख्सियत है प्यारे नबी
मुक़म्मल बंदगी का अकस है प्यारे नबी

सुन्नते जो सिखलाती बेहतरीन अख़लाक़
अमल करे जो उनपे, सँवरते है दोनों जहाँ

सादगी से अपनी जीता है दिलो को उन्होंने
ज़िंदगी से पेश की इंसां के लिए इक मिसाल

बुलंद ये मर्तबा ज़मीन-ओ-आसमाँ भी झुकते
सरकार-ऐ-मदीना का जलवा यूँ आफ़ताबी है

मगफिरत होगी कर ले हुजूर से जो मुहब्बत
दिल में जिसके रवां हो हसरत बस रसूल की

लिखना तो बहुत है लफ्ज़ो में वो क़ुव्वत कहा
सरवर-ऐ-आलम की तारीफ जो कर पाये बयां

जिनके लिए ही कायम है यह पूरी क़ायनात
ज़िक्र होता रहेगा उनका सदा ख़ुदा के साथ

ऐसी अज़ीम पाकीज़ा शख्सियत है प्यारे नबी
इक मुक़म्मल बंदगी का अकस है प्यारे नबी ………इरफ़ान

“यादें”

       

 

  ………यादें……..

आज फिर पुरानी यादें सामने आई है
दिल कह रहा ये तो बस इक तन्हाई है

वो लम्हा जिसे यूँही भूल आया था
बरसो पहले तू कही छोड़ आया था

यादें लहरों की तरह होती है
कब तक इनसे दूर भागेगा
इक दिन तो वो भी आयेगा
हक़ीक़त से जब रूबरू हो जायेगा

दिल कहता है काश वो दिन वापस आ जाये
मगर यादे समंदर किनारे रेत की मानिंद है
जो वक़्त के दरिया में बस घुलती जा रही है……इरफ़ान

Happy birthday Ashif

Ashif
सबसे जिगरी वो मेरा, लाखों दिलों की है वो जान
बंदा एक बिंदास है, देट इज मिस्टर आशिफ़ ख़ान
एपिक एटीट्यूड और, राॅकस्टार सी पर्सनैलिटी है
यारों में दिलफरियाद सबसे, ये कूल डूड स्मार्टी है
घर में सबसे छोटा है, पर काम करता हैं बड़े बड़े
प्रॉब्लम का करे सॉल्यूशन, चुटकी में यूँ खड़े खड़े
बचपन से ही अव्वल दर्ज़ा, हाइली हरफ़नमौला है
हर रिश्ते को इसने हमेशा, इन्सानियत से तोला है

यूँ तो इंजीनियर है मगर हर फील्ड का बादशाह है
याद रखे कायनात जिसे ऐसा कर जाने की चाह है
परिवार में हमेशा मोहब्बत के रंग भरना चाहता है
पापा के हर ख़्वाब को ये मुक़म्मल करना चाहता है
अम्मी की आँखों का तारा, फैमिली का है ये सितारा
मुश्किल हो चाहे जितनी भी, यह कभी नहीं है हारा
डांस में यह एक्सपर्ट और म्यूजिक इसका पैशन है
इंटेलिजेंस एंड इमोशन का परफेक्ट काॅम्बिनेशन है
इल्ज़ाम लगाते हैं सब इस पर, तुनक मिजाजी का
खर्चीला होने का, और रिएक्शन में जल्दबाजी का
गर्लफ्रेंड हो या ज़िंदगी, सबने इसे जमकर लूटा है
भटको की मदद करने का, रब ने इसे हुनर बख़्शा है
जितना डिजर्व करता है, उतना प्यार नहीं मिला है
जुनून की तलाश है इसे, फ़क़त क़रार नहीं मिला है
सही मायने में दिल के आइने में, सच्चा दोस्त है ये
हर रिश्ते से बढ़कर सदा सबसे अच्छा दोस्त है ये
जब कभी मैं लड़खड़ाया, इसने मुझे हौसला दिया
बेघर किया जब लोगों ने, इसने मुझे घोंसला दिया
हर साल सात जून को इसका हैप्पी बर्थडे आता है
मस्ती फन व धमाल का एक्सट्रीम ऑफर लाता है
बेस्टेस्ट बड्डी वो मेरा, फ्रेंडशिप पर है जो कुर्बान
बंदा ये बिंदास है, हिज नेम मिस्टर आशिफ़ ख़ान

किसी ने न पूछी तबीयत हमारी

122  122   122  122
फ़साना   नहीं  है  अज़ीयत  हमारी
किसी  ने  न  पूछी  तबीयत  हमारी।

यूं’  तीमारदारी   वही   लोग  करते
कि प्यारी है’ जिनको वसीयत हमारी।।

©इरफ़ान अली ख़ान

यक़ीन मानिए कुछ लोग कभी भी सुधरते नहीं

हादसों के बाद भी, ख़ुद को वो बदलते नहीं
यक़ीन मानिए कुछ लोग कभी भी सुधरते नहीं


एहसास जब भी होता है, मालूम तब ये चलता है
के मरते तो इन्सान हैं, एहसास कभी मरते नहीं
Rockshayar Irfan Ali Khan

https://youtu.be/nAgS0jox_T8

Naam Ali

शुक्र तेरा ऐ मौला मेरे
मेरे नाम में अली है

कहती ये क़लम मुझसे
मेहरबां तुझ पर नबी है

Irrfan Khan

नज़र नहीं आता अब वो इंसान यहां
पर बाक़ी है उसके कुछ निशान यहां

इक रोज़ जो इंतज़ार की कहके गया था
बाद उसके नहीं दिखा वो इरफ़ान यहां

Iftar Hone Ko Hai

अब्र की आँखों से दर्द टपकने को है
सब्र कर ऐ ज़मीं, बारिश होने को है

अभी प्यास लगना लाज़िम है तुझे
बस थोड़ी देर और, इफ़्तार होने को है

Ramzan Mubarak

Mahtab Ka Qissa by Ashif Khan

सुनिए इस चाँद रात में
चाँद की अनसुनी कहानी
ख़ुद चाँद की ही ज़ुबानी
कैसे एक शख़्स से मुखातिब होकर
महताब ने हज़ारों सालो से
अपने अंदर दबे दर्द को ज़ाहिर किया
या यूँ कहे के ख़ुद दर्द को ही मुतास्सिर किया
👇👇🤘🎙🤘👆👆
https://youtu.be/0tkkgyGDTlw